5 स्‍वास्‍थ्‍य लाभों से भरपूर है बायीं करवट सोना

0
71

नींद से हमारी सेहत पर बहुत प्रभाव पड़ता है। ऐसे में अगर हम बायीं करवट सोते है तो सेहत के लिए फायदेमंद होता है, इस स्लाइडशो में विस्तार से पढ़ें कि बाएं करवट सोना क्‍यूं अच्‍छा माना जाता है।

बायीं करवट सोना पूरी रात एक ही करवट में सोते रहना संभव नहीं होता है। लेकिन हम जिस भी करवट मे सोते है इसका असरना केवल हमारे अंगों पर, बल्कि साथ ही दिमाग पर भी पड़ता है। विशेषज्ञों का मानना है कि बायीं करवट सोने से शरीर पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। बायीं करवट सोने से शरीर में रक्त का संचार बेहतर तरीके से होता है। जिससे नींद अच्छी आती है। इसके साथ ही दिल का रोग, पेट संबन्‍धित खराबी, थकान, पेट का फूलना और अन्‍य शारीरिक समस्‍याएं हल हो सकती हैं।

घातक बीमारियां होती हैं दूर किडनी और लीवर हमारे शरीर के विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम करती है। विशेषज्ञों का मानना है कि बायीं करवट शरीर के अंदर मौजूद विषैले पदार्थों का निकलने में आसानी रहती है। लीवर में फैट जमा नहीं हो पाता। अगर नींद में किसी भी तरह की बाधा पड़ती है तो किडनी अपना काम ठीक से नहीं कर पाती है। लीवर किडनी के ठीक तरह से काम करने से शरीर धाटक बीमारियों से दूर रहता है।

पाचन सुधारे अच्छी नींद पेट से जुड़ी समस्याओं को जल्दी निपटा देती है। बायीं ओर करवट करके सोने से खाना हजम होने में आसानी होती है। अग्न्याशय से एंजाइम सही समय पर निकलना शुरु होता है। खाया गया भोजन भी आराम से पेट के जरिये नीचे पहुंचता है और आराम से खाना हज़म हो जाता है। जिन लोगों का हाजमा गड़बड़ रहता है और बदहजमी की शिकायत रहती है, उन्हें डाक्टर बायीं करवट लेटने की सलाह देते हैं। बाएं ओर सोने की वजह से ग्रेविटी, भोजन को छोटी आंत से बड़ी आंत तक आराम से पहुंचाने में मदद करती है। इस वजह से सुबह के समय आपका पेट आराम से साफ होगा।

अच्छी नींद एक शोध के मुताबिक बायीं करवट सोने से दिमाग की सारी गंदगी भी दूर हो जाती है और आप सुबह सुबह तरोताजा उठते है। इससे रीढ की हड्डी और बैक पेन आदि में भी आराम मिलता है।ऐसे लोग खुशनुमा और सकारात्मक जीवन जीते हैं। अगर आपको अस्थमा की शिकायत है तो भी बायीं करवट सोना आपके लिए बेहतर है।

दिल पर जोर कम पड़ता है बाएं करवट सोने से दिल पर जोर कम पड़ता है क्‍योंकि उस समय दिल तक खून की सप्‍लाई काफी अच्‍छी मात्रा मे हो रही होती है। अब अगर दिल स्‍वस्‍थ रहेगा तो खून व आक्‍सीजन की सप्‍लाई आसानी से शरीर और दिमाग तक भी पहुंचेगा।बायीं करवट में सोने से रक्त का प्रवाह सही रहता है, जो गर्भस्थ शिशु के स्वास्थ के लिए भी अच्छा है। इसके अलावा आपके गुर्दों को काम करने में भी मदद मिलती है। एड़ी, पैरों और हाथों में सूजन भी आने की आशंका कम रहती हैं।