हो जाइये सावधान ! अगर बैठे-बैठे पैर हिलाने की है आदत !

0
104

जब भी हम कभी फ्री बैठे होते हैं तो खेल-खेल में अपने पैरों को हिलाने लगते हैं। उसके बाद ये खेल धीरे-धीरे आदत में शुमार होने लगता है। लेकिन यदि आपको बैठने के साथ-साथ लेटकर भी पैरों को हिलाने की आदत है तो ज़रा सावधान हो जाइये क्योंकि पैरों को हिलाने की ये आदत आपके लिए खतरनाक साबित हो सकती है।

पैर हिलाने की आदत आपके व्यक्तित्व में तो गिरावट लाती ही है साथ ही सेहत के लिहाज से भी ये ठीक नहीं है। आइये जानते हैं पैर हिलाने के क्या-क्या कारण हो सकते हैं।

यदि आप के अंदर भी ये बुरी आदत है तो हो सकता है आप रेस्टलेस सिंड्रोम के शिकार हों। इसकी मुख्य वजह आयरन की कमी होना है।

35 वर्ष से अधिक लोगों में पाई जाती है ये समस्या  यह नर्वस सिस्टम से जुड़ा रोग है। यह समस्या 10 प्रतिशत लोगों में होती ही है, इसके लक्षण अधिकतर 35 वर्ष से अधिक उम्र के लोगो में पाए जाते हैं।

क्या होता है रेस्टलेस सिंड्रोम  पैर हिलाने पर मनुष्य के शरीर में डोपामाइन नामक हार्मोन स्त्रवित होने लगता है। जिससे मनुष्य को अच्छा लगने लगता है और उसे बार-बार पैर हिलाते रहने का मन करता है।

इसे स्लीप डिसऑर्डर भी कहा जाता है नींद पूरी न होने पर मनुष्य बहुत थका हुआ महसूस करता है। बॉडी में इसका पता लगाने के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता है।

यह रोग मुख्यतः आयरन की कमी के कारण होता है। इसके अलावा किडनी, पार्किंसस से पीड़ित मरीजों और गर्भवती महिलाओं के हार्मोनल बदलाव भी इसके होने के कारण हो सकते हैं।

ह्रदय रोगियों के लिए खतरा शुगर, बीपी और ह्रदय रोगियों के लिए ये काफ़ी खतरनाक साबित हो सकता है। इसलिए भरपूर नींद लें और सिगरेट शराब के सेवन से बचें।

इलाज है संभव  इस बीमारी के इलाज के लिए आयरन की दवा ली जाती है साथ ही हॉट और कोल्ड बाथ तथा वाइब्रेटिंग पैड पर पैर रखने से छुटकारा भी मिलता है।