हल्की नोंकझोंक के बीच नगर निगम का 3994.65 करोड़ का बजट पारित बहुमत से पारित –

0
9

परिषद् बैठक में रखे गये 12 प्रस्ताव भी पारित, चार पर बनी सर्वानुमति | इन्दौर । वर्ष 2017-18 के लिए नगर निगम, इन्दौर का 3994.65 करोड़ का बजट बुधवार को पक्ष-विपक्ष के बीच हुई हल्की नोंकझोंक और कांग्रेस के विरोध के बावजूद ‘बहुमत’ से पारित कर दिया गया। इसके अतिरिक्त परिषद् बैठक में शामिल किये गये करीब 12 प्रस्ताव भी पारित किये गये, इनमें चार प्रस्तावों पर सर्वानुमति बनी।

महापौर मालिनी गौड़ द्वारा पेश किये गये 3994.65 करोड़ के बजट पर बुधवार को बिलियंट कन्वेशन सेंटर में प्रश्नकाल के बाद चर्चा हुई। इस दौरान पक्ष-विपक्ष के बीच हल्की नोंकझोक और हंसी-ठिठोली भी हुई। नेता प्रतिपक्ष फौजिया शेख के साथ ही विधायक उषा ठाकुर, एमआईसी मेंबर शंकर यादव, बलराम वर्मा, अश्व‍िन शुक्ला, सुधीर देड़गे, सुरज कैरो, शोभा गर्ग, पार्षद वंदना यादव, अनिता तिवारी, अनवर दस्तक, साद‍िक खान, कविता खोवाल, अंसाफ अंसारी, छोटे यादव, विनितिका यादव, जगदीश धनेरिया, दीपक जैन, देवेन्द्र रावत, जितेन्द्र चौधरी, रूपेश देवलिया, उस्मान पटेल, रूबीना खान ने अपने सारगर्भ‍ित विचार व सुझाव दिए। परिषद् की बैठक विधायक जीतू पटवारी, मनोज पटेल, राजेश सोनकर भी उपस्थ‍ित थे।

प्रश्नकाल के दौरान नेता प्रतिपक्ष फौजिया शेख ने ‘प्रश्नकाल’ के लिए चयनित किये जाने वाले प्रश्नों की प्रक्रिया पर ही सवाल खड़े कर दिये। इस पर सभापति अजयसिंह नरूका ने सफाई दी कि प्रश्नकाल में शामिल किये जाने वाले पार्षद प्रश्नों का चयन महापौर के विवेक से किया जाता है। प्रश्नकाल के दौरान पार्षदों द्वारा पूछे गये प्रश्नों पर संबंध‍ित विभाग के एमआईसी मेम्बर्स ने जवाब दिए और चाही गई जानकारी सदन के सामने रखी। महापौर द्वारा प्रस्तुत इस बजट में पिछले तीन सालों के आंकड़ों और घोषणाओं को पुन: प्रस्तुत करने के मामले में कांग्रेस पार्षद दल ने बजट का विरोध किया। इस दौरान नगर निगम के ‘ई-न्यूज़ लेटर’ का लगातार प्रकाशन नहीं होने के मुद्दें को भी विपक्ष ने सदन में उठाते हुए ‘निगम के जनसम्पर्क व आईटी विभाग’ की लापरवाही को उजागर किया।

बहुमत से बजट पारित होने के बाद परिषद् बैठक में शामिल किये 12 प्रकरणों को भी बहुमत से मंजूरी दे दी गई। लोक परिवहन में विकलांग व बुजुर्गों को छूट देने के प्रस्ताव पर नेता प्रतिपक्ष ने महिलाओं को भी 50 प्रतिशत छूट देने का सुझाव दिया, हालांकि इस प्रस्ताव को बाद में कोई परिवर्तन किये बगैर सर्वानुमति से पारित कर दिया गया। स्वास्थ्य संरक्षकों को यूनिफार्म देने के प्रस्ताव पर कांग्रेस ने ‘स्वास्थ्य समिति प्रभारी’ द्वारा निगम से बनाई गई दूरी और बैठकों में लगातार उनकी अनुपस्थ‍िति व उनके अभ‍िमत के बावजूद इस तरह के प्रस्ताव पर आपत्त‍ि ली, लेकिन उसे बहुमत से पारित कर दिया गया। सिंहासा आईटी पार्क को पेयजल देने के प्रस्ताव को भी विपक्ष की आपत्ति व जलकार्य प्रभारी के स्पष्टीकरण के बीच बहुमत से पारित कर दिया गया। शहर के प्रमुख मार्गों के प्रस्ताव पर नेता प्रतिपक्ष ने ‘मार्गों के चयन मामले में कांग्रेस पार्षद दल से एक सदस्य को शामिल करने का सुझाव दिया। देवगुराड़‍िया लैंडफ‍िल साइट पर ‘वेस्ट टू एनर्जी रीजनल इंटीग्रेटेड म्यूनिस‍िपल सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट परियोजना’ को डिजाईन बिल्ड फायनेंस ऑपरेट एण्ड ट्रांसफर आधार पर बनाने संबंधी प्रस्ताव पर नेता प्रतिपक्ष ने प्रस्ताव को समझाने की बात कहीं, लेकिन कोई जनप्रतिनिध‍ि इस पर बोल नहीं सका, अंतत: निगम कमिश्नर मनीष सिंह ने परियोजना की जानकारी और निगम को इससे होने वाले लाभ से सदन को अवगत कराया, इसके बाद पक्ष व विपक्ष की सर्वानुमति से इस प्रस्ताव को पारित किया गया। स्कीम नं. 54 में तीन बहुमंजिला पार्किंग के प्रस्ताव पर कांग्रेस के विरोध के बाद बहुमत से इसे पारित किया गया। इसके बाद एक सड़क के नामकरण सहित दो अन्य प्रस्तावों पर भी सर्वानुमति से मंजूरी दी गई।

:: इन्दौर को विकसित शहर बनाने, हमारी परिषद् परिषद् दृढ़ संकल्प‍ित : महापौर ::
बजट बैठक पर हुई नोकझोंक के बीच हुई बहस के बाद महापौर ने अपने उद्बोधन में कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में पक्ष-विपक्ष एवं निर्दलीय सभी पार्षद महत्वपूर्ण है। परिषद् के 85 पार्षद सभी मेरे साथी है। उन्होंने कहा कि शहर का विकास ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मूलमंत्र के साथ ही कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे। इन्दौर को देश के विकसित शहरों में शामिल करने के लिए हमारी परिषद् बगैर रूके और बगैर चूके काम करने के लिए दृढ़ संकल्पित है।
बजट चर्चा के दौरान अंसाफ अंसारी ने अवैध निर्माण और असामाजिक तत्वों द्वारा की जाने वाली दादागिरी के मद्दें को सदन में उठाने पर महापौर ने डीआईजी एवं कलेक्टर से चर्चा कर इस मामले में नियमानुसार त्वरित कार्यवाही का आश्वासन सदन को दिया। नेता प्रतिपक्ष फौजिया शेख द्वारा कान्ह, सरस्वती नदी व सीवेज आउटफॉल के मुद्दें पर महापौर ने कहा कि हम शहर की प्रायमरी/सेकेण्ड्री सीवेज व नाला टेपिंग कार्यों की विस्तृत समीक्षा लगातार कर रहे है। अमृत परियोजना में डीसेन्ट्रलाइज सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाकर सीवेज नेटवर्क शत-प्रतिशत करने का प्रयास कर रहे है। उन्होंने कहा कि बजट पर हुई चर्चा में आए सभी सुझावों को हम सकारात्मक रूप से लेंगे और शहर हित में इन सुझावों पर क्रियान्वयन अवश्य किया जायेगा। महापौर ने कहा कि मेरे सभी पार्षद साथी अपने-अपने वार्डों के जननेता है और निगम के कार्यों से आमजन को जोड़ने का दायित्व बखुबी निभा रहे है। निगम के कार्यों को जन-जन तक पहुंचाने एवं विकास कार्यों का लाभ आमजनता को लम्बे समय तक मिलता रहें, यह अत्यंत महत्वपूर्ण है और यह सब सहभागीता के बगैर संभव नहीं है। महापौर ने बताया कि ‘महापौर विशेष प्रोजेक्ट’ में गॉंधी हॉल, नेहरू पार्क, नेहरू स्टेडियम, दशहरा मैदान, लक्ष्मणसिंह गौड़ उद्यान, हरसिद्धि के विकास की सभी प्रक्रियाऍं पूर्ण हो चुकी है। जल्द ही इन कार्यों को शुरू किया जायेगा और लगातार इनकी मॉनिटरिंग भी की जायेगी। उन्होंने कहा कि बकायादारों की वसूली एवं नई सम्पत्त‍ि खोजने का कार्य भी अत्यंत महत्वपूर्ण है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि सभी पार्षद इस कार्य को अपनी प्राथमिकता में शामिल करेंगे।

:: प्रत्येक व्यक्त‍ि से वृक्ष लगाने की अपील ::
सुश्री उषा ठाकुर ने स्वच्छता में नम्बर-1 बनाकर अहिल्या नगरी को राष्ट्रीय क्षतिज पर स्थापित करने के लिए निगम अध‍िकारियों, कर्मचारियों व जनप्रतिनिध‍ियों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि पक्ष हो या विपक्ष, सभी की सकारात्मक भूमिका ने इन्दौर को यह गौरव दिलवाया है। उन्होंने कहा कि ग्लोबल वार्मिंग विश्व का एक ज्वलंत मुद्दा है, जिस प्रकार इन्दौर में मुख्य मार्गों पर डिवाइडर की जगह पौधारोपण की तैयारियॉं की जा रही है, उसके लिए उन्होंने विशेष रूप से इस निगम परिषद् का आभार माना। सुश्री ठाकुर ने कहा कि यदि हमें मालवा का ‘शबे मालवा’ फिर से लौटाना है, तो हमें यह तापमान 38 डि.से. तक ले जाना होगा और इसके लिए उन्होंने प्रत्येक व्यक्त‍ि से एक फलदार वृक्ष लगाने की अपील की। इससे हम इन्दौर की नई पहचान अख‍िल भारतीय स्तर पर स्थापित कर पायेंगे।

:: पार्षद रूबीना खान की मॉंग पर पक्ष-विपक्ष ने खेड़े होकर किया समर्थन ::
पार्षद रूबीना खान ने सदन में नियम का हवाला देकर परिषद् की बैठक व बजट को समय पर पेश करने की मॉंग की। उन्होंने कहा कि हम जनता के हमदर्द है, अगर समय पर बजट पेश होगा, तो जनता के काम भी समय पर होंगे। उन्होंने अपने अंदाज़ में कहा कि अब दो साल का कार्यकाल बचा है, अगर भव‍िष्य में समय पर बजट पेश होगा, तो समय पर काम होंगे और हमें भी तीसरी बार मौका मिल जायेगा। उन्होंने इन्दौर को नम्बर-1 बनाने के लिए सभी को बधाई दी और निगम कमिश्नर की जिद और दृढ़ निश्चय के लिए उन्हें इस बधाई का सबसे ज्यादा ह़कदार बताया। हसी-ठहाके के बीच अपने चुटीले अंदाज़ में उन्होंने न केवल महापौर को घेरने की कोश‍िश की, बल्कि पार्षदों का ‘मानदेय’ बढ़ाने की मॉंग भी रखी, उन्होंने कहा कि आज मजदूर भी 350 रू. रोज पर मजदूरी करते है, लेकिन हम उनसे भी गये बीते हो गये है। इस पर पक्ष व विपक्ष दोनों दलों के पार्षदों ने खड़े होकर इसका समर्थन किया। हसी-ठिठोली के बीच हुई इस बात पर सभापति ने भी चुटकी लेते हुए कहा कि इस मुद्दें पर पूरे देश में ‘पक्ष और विपक्ष’ साथ रहता है। रूबीना ने पोलीथ‍िन की थैलियों पर बैन लगाने के मुद्दें पर कहा कि बड़े ब्राण्ड़ को चॉकलेट व चिप्स या अन्य उत्पादों को पन्नी के पैकिंग में बेचने की छूट है, तो छोटे दुकानदारों को ‘कचोरी की चटनी’ आदि के लिए भी पन्नी की छोटी थैली के उपयोग की छूट देनी चाहिये। अन्यथा सभी पर कड़ी कार्यवाही की जानी चाहिये। उन्होंने पाड़े का अवैध मॉंस बेचने वालों को विध‍िवत लायसेंस देने की भी वकालत की। अपनी बात रखने के अनोखे अंदाज़ के लिए चर्चित पार्षद रूबीना खान जब तक बोलती रहीं, सदन ठहाकों से गूंजता रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here