शैंपू में मौजूद रसायन से कैंसर का खतरा

0
49

नई दिल्ली । एक ताजा शोध में बताया गया है कि बालों को धोने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले शैंपू में मौजूद रसायन कैंसर का कारण बन सकता है। इस रसायन समूह का नाम `एल्डीहाइड’ है जो कि हमारे शरीर में थोड़ी-थोड़ी मात्रा बनता है और वातावरण में हर जगह मौजूद होता है। शोध में पाया गया बहुत ज्यादा एल्डीहाइड रसायन के रहने से कैंसर होने का खतरा रहता है इस वजह से डीएनए के फिक्स रहने की क्षमता खत्म हो जाती है।कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के लीड ऑर्थर प्रोफेसर अशोक वेंकटरमन का कहना है कि हम जानते हैं कि एल्डीहाइड अच्छा नहीं है और इसका सीधा संबंध कैंसर से है।लेकिन हम ये भी नहीं जानते कि डीएनए को उत्पन्न करने वाली कोशिकाओं के प्रोटीन को अगर ये नष्ट करता है तो इसका कारण कैंसर है या नहीं। वे कहते हैं कि हम नहीं जानते कि हम सांस के जरिए कितने रसायन अंदर ले रहे हैं और ये कितनी देर तक वातावरण में मौजूद हैं। लेकिन ये तय है कि एल्डीहाइड हर जगह मौजूद होता है।रिसर्च में पाया गया कि नाक और गले का कैंसर का सीधा संबंध फोरमैल्डीहाइड गैस से है।इस रंगहीन तेज गंध वाली गैस का इस्तेमाल एम्बामिंग के लिए होता है। इसकी वजह से डीएनए की मरम्मत करने वाले स्वस्थ्य कोशिकाएं विभाजित हो जाती हैं।एल्डीहाइड बीआरसीए-2 प्रोटीन सेल्स की कमी के कारण होता है जो कि इन्हें बहुत कमजोर बना देता है।ऐसे में विकृत जीन होने के कारण छाती, ओवरियरन, प्रोस्टेट और अग्नाशयी कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।