विटामिन ई बच्चों में सीखने की क्षमता बढ़ाने में मददगार

0
81

गर्भवती महिलाओं की खुराक में Vitamin E की कमी से बच्चों में मानसिक कौशल संबंधी विकार व उपापचय में समस्या हो सकती हैं. ऐसे में Vitamin E की खुराक बच्चों की सीखने की क्षमता बढ़ाने के लिए मददगार है. इस शोध को जेब्राफिश पर किया गया है, क्योंकि उसका तंत्रिका तंत्र संबंधी विकास मानव की तरह ही है.

इस शोध में पता चला है कि जेब्राफिश में निषेचन के पांच दिनों बाद भ्रूण में विटामिन ई की कमी से ज्यादा विकृतियां और मृत्यु की संभावना ज्यादा पाई गई. साथ ही यह डीएनए के मेथिलेशन स्तर को पांच दिन में बदल देता है. एक अंडे को तैरने योग्य जेब्राफिश बनने में पांच दिन का समय लगता है.

जन्म के बाद इन्हें विटामिन ई की उचित मात्रा जरूर दे बच्चों में मानसिक कौशल संबंधी विकार व उपापचय की समस्या नहीं होती हैं.

Vitamin E देने से बच्चों की सीखने की क्षमता बढ़ जाती है. और बच्चों का दिमाग व मानसिक संतुलन बना रहता है Vitamin E देने से बच्चों का विकास सही तरीके से होता है

अमेरिका के ओरेगोन स्टेट यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर मारेट ट्राबेर ने कहा, “यद्यपि इनमें दिमाग का गठन हुआ, लेकिन ये बेवकूफ रहीं और सीखने में सफल नहीं रहीं और सही तरह से प्रतिक्रिया नहीं दे सकीं.” ट्राबेर ने कहा कि विटामिन ई की कमी से इन भ्रूणों में चोलीन और ग्लूकोज की कमी रही और इनका विकास सही तरीके से नहीं हुआ.

महत्त्वपूर्ण सुचना: यहाँ दी गई जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर
सम्भव प्रयास किया गया है। यहाँ उपलब्ध सभी लेख पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए है और इसकी
नैतिक जि़म्मेदारी www.braahmi.com  की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपनेचिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। आपका चिकित्सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्प नहीं है।