लेमन या ग्रीन टी कौन है वजन घटाने में अधिक कारगर

0
225
Green tea

बढ़ते वजन की समस्या आज हर तीसरे से चौथे इंसान की समस्या है। और वजन कम करने के सबसे लोकप्रिय तरीकों में से एक है नींबू वाली चाय या ग्रीन टी पीना। ग्रीन टी को जहां लोग चाय और कॉफी के स्थान पर बेहतर मानते हैं वहीं कई लोग कोल्ड ड्रिंक की प्यास को गुनगुने पानी में नींबू डालकर बुभाते हैं। लेकिन सुबह के समय दोनों को ही लोग वजन कम करने के लिए इस्तेमाल करते हैं। अब सवाल यह है कि दोनों में से कारगर कौन है यानि ग्रीन टी बनाम लेमन टी। आइएं जानें दोनों किस तरह काम करते हैं और कैसे यह हमारे शरीर से मोटापे को दूर करने में सहायक होते हैं।

कैसे काम करता है ग्रीन टी :-
ग्रीन टी से शरीर का मेटाबॉलिज्म बढ़ता है और इसमें मौजूद “एल-थियानाइन” नामक एमिनो एसिड शरीर में चर्बी को नहीं बढ़ने देता है। मेटाबॉलिज्म के बढ़ने से शरीर में फैट तेजी से नहीं बढ़ता। यह एमिनो एसिड हमारे नर्वस सिस्टम को शांत करती है और पेट से जुड़े हार्मोंस जैसे कोर्टिसोल से तनाव कम करता है। ग्रीन टी में पॉलीफिनोल नामक तत्व होते हैं जो शरीर की चर्बी को खत्म करने में मदद प्रदान करते हैं। कुछ वैज्ञानिक मानते हैं कि यह तत्व बिना एक्सरसाइज किए भी चर्बी घटाने में सहायक है। यह डायबिटीज को कंट्रोल में रखता है और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को भी दूर करता है।

ग्रीन टी पीने के तरीके :-
ग्रीन टी खाने से एक घंटे पहले पीने से अधिक फायदा होता है । एक दिन में तीन या इससे अधिक कप ग्रीन टी नहीं पीना चाहिए । ग्रीन में चीनी या दूध नहीं मिलाना चाहिए, इसकी जगह नींबू, शहद, तुलसी के पत्ते या अदरक आदि डाल सकते हैं । खाने के तुरंत बाद ग्रीन टी नहीं पीना चाहिए । रात को सोते समय ग्रीन टी पीने से वजन तेजी से कम होता है।

लेमन टी कैसे काम करती है :-
लेमन टी साधारण चाय या कोल्डड्रिंक की अपेक्षा बेहद कम कैलोरीज वाली होती है। अगर इसमें चीनी की जगह शहद मिलाया जाए तो इसका असर दोगुना हो जाता है। नींबू में विटामीन सी होता है जो खून से गंदगी को बाहर करता है। इसे पीने से तरो ताजगी बनी रहती है । नींबू वाली चाय पीने से हाजमा भी बेहतर होता है। नींबू में पोटेशियम होता है जो हमारे मेटाबॉलिज्म और पाचन क्रिया को तेज करता है। विटामीन सी से वजन कम करने में भी मदद मिलती है।

लेमन टी पीने के तरीके :-
ब्लैक टी में नींबू रस डालकर पीने से काफी लाभ होता है । लेमन टी में अदरक, दालचीनी, तुलसी आदि डालकर इसके चिकित्सीय गुणों को बढ़ाया जा सकता है।

दोनों से कौन है अधिक फायदेमंद :-
विशेषज्ञों का मानना है कि ग्रीन टी में मौजूद तत्व जैसे “एल-थियानाइन” और पॉलीफिनोल इसे वजन कम करने के लिए अधिक फायदेमंद बनाते हैं। हालांकि इससे वजन कम तभी होता है जब साथ में उचित व्यायाम और डाइट का पालन किया जाए। लेमन टी में भी वजन कम करने के गुण होते हैं और यह भी समान रूप से फायदेमंद होती है। यहां यह भी ध्यान देने वाली बात है कि ग्रीन टी अधिक मात्रा में पीने से कई प्रकार के नुकसान भी हो सकते हैं।

जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा । आपके एक शेयर से किसी जरूरतमंद तक यह सही जानकारी पहुँच सकती है ।

महत्त्वपूर्ण सुचना: यहाँ दी गई जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हरसम्भव प्रयास किया गया है। यहाँ उपलब्ध सभी लेख पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए है और इसकीनैतिक जि़म्मेदारी www.braahmi.com  की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपनेचिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। आपका चिकित्सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्प नहीं है।