लहसुन के प्रयोग एवं फायदे

0
129

हम सब सर्दी या कफ के लिए लहसुन की उपयोगिता तो जानते ही हैं, लेकिन इसके अलावा भी इसमें कई औषधीय गुण होते हैं। लहसुन सिर्फ खाने के स्वाद को ही नहीं बढ़ाता, बल्कि सेहत को भी सुधारता है। प्राकृतिक चिकित्सा यानी नेचुरोपैथी  में लहसुन को एक चमत्कारिक औषधि माना जाता है, जो कई बीमारियों के इलाज में कारगर साबित होती है। वैसे भी अभी मौसम बदल रहा है, तो इसके असर से बचने के लिए लहसुन का नियमित इस्तेमाल जरूरी हो गया है क्योंकि यह बदलते मौसम में हमें कई बीमारियों से बचाने का काम करता है। स्वाद बढ़ाने के अलावा लहसुन में और क्या-क्या हैं खूबियां,

लहसुन के औषधीय गुण

रोजाना चार ग्राम लहसुन के सेवन से शरीर कई बीमारियों से बच सकता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि लहसुन के सेवन से कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। लहसुन में मौजूद एंटीबायोटिक तत्व शरीर को कई बीमारियों से बचाते हैं। यह एक एंटीऑक्सीडेंट भी होता है, जो शरीर को मजबूती प्रदान करता है। लहसुन कैंसर से बचाव में भी लाभदायक है।

  • लहसुन का एक दाना छीलकर सुबह पानी के साथ खाया जाए, तो रक्त में कोलेस्ट्रॉल  का स्तर नियंत्रित रहता है और ब्लड प्रेशर  भी कंट्रोल में रहता है।
  • यह डायबिटीज मधुमेह) रोगियों के लिए भी फायदेमंद होता है। शोधों में पाया गया है कि लहसुन शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में काफी कारगर साबित होता है।
  • यूरिन (मूत्र) का प्रवाह सुधारने के लिए भी लहसुन का उपयोग किया जाता है।
  • किडनी और ब्लेडर की तकलीफ में भी लहसुन बहुत उपयोगी होता है।
  • लहसुन पाचन प्रणाली को तेज कर उदरवायु से निजात दिलाता है।
  • कान दर्द या पेट में कीड़े होने पर भी लहसुन का उपयोग आराम देता है।
  • अगर आप मौसमी असर को कम करना चाहते हैं, तो लहसुन का उपयोग जरूर करें क्योंकि यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में काफी मददगार होता है।

कैसे करें लहसुन का सेवन : लहसुन खाने का सही तरीका

यदि आपको सर्दी या कफ की समस्या है, तो लहसुन की ताजी कच्ची कलियों को चबाएं। इससे काफी आराम मिलता है।

लहसुन को पानी में उबालकर 10-12 घंटे रख दें, फिर उसमें शक्कर मिलाकर सिरप की तरह बना लें। आप इसमें शहद भी मिला सकते हैं। इस सिरप को आप फ्लू, सर्दी, कफ और सांस से जुड़ी बीमारियों आदि में सेवन कर सकते हैं।

जैतून के तेल में लहसुन की कलियां उबालकर ठंडा कर लें। इस तेल को छानकर रख लें। जब भी कान में दर्द हो, तो दो बूंद कान में डाल लें। छोटे बच्चों की मालिश के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

लहसुन को कद्दूकस कर उसमें थोड़ी सी नमक-मिर्च मिलाकर रोज़ाना सेवन किया जा सकता है। यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने का काम करता है।

यदि आप सब्जी में लहसुन खाना पसंद करते हैं, तो पेस्ट की बजाय छिलका उतार कर साबुत लहसुन ही सब्जी में डालें।
इस तरह बदलते मौसम में होने वाली बीमारियों से बचाव के लिए जीवाणुरोधी गुणों वाले लहसुन के रोजाना उपयोग से आप खुद को और अपने घर के लोगों को स्वस्थ रख सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here