रूटीन से रहने वाले बच्चे रहते हैं फिट 

0
75

छोटी उम्र से ही बच्चे का एक रुटीन बनाकर चलने के बेहद फायदे कई हैं। अगर बच्चा एक तय समय पर सोता है, तय समय पर जागता है और उसके खेलने का समय भी तय है, तो ऐसे बच्चों की हेल्थ ताउम्र अच्छी बनी रहती है। यही नहीं, समय पर सोने वाले बच्चे मोटापे से भी बचे रहते हैं। अमेरिका के ओहियो स्टेट विश्वविद्यालय के लेखक सारा एंडरसन ने कहा, ’इस रिसर्च से साबित होता है कि छोटी उम्र के बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूरी है उनका रूटीन बनाना और उसे उनसे फॉलो करवाना।’ रिसचर्स ने तीन साल की आयु वाले 3000 बच्चों के रूटीन का निरीक्षण किया। उनके समय से सोने जाने, समय से खाने और उनके समय से टीवी या फिल्म देखने (एक घंटे या कम) का विश्लेषण किया गया। इसमें रिसचर्स ने पैरेंट्स की रिपोर्ट से बच्चों के दो प्वाइंट्स पर फोकस किया। इसमें शामिल किया गया एक ही उम्र के बच्चों को। इस रिसर्च का प्रकाशन पत्रिका ’ओबेसिटी’ में भी किया गया। एंडरसन ने कहा, ’हमने पाया कि जिन बच्चों को तीन साल की उम्र में एक शेडयूल के तहत नहीं चलाया गया, उनमें 11 साल की उम्र में मोटापे की संभावना ज्यादा रही।’ रिसचर्स ने पाया कि समय से रोजाना बिस्तर पर नहीं जाने वाले बच्चों में 11 साल की उम्र में मोटापे की संभावना ज्यादा पाई गई। यही नहीं, इस रिसर्च में यह भी पता चला कि जिन बच्चों का सोने का कोई समय नहीं होता, उनका आगे चलकर मोटापे का शिकार होना तय है। वहीं समय पर सोने वाले बच्चे हमेशा हेल्दी और स्लिम ट्रिम होते हैं। इस रिसर्च में यह निकलकर आया कि रुटीन पर चलने वाले बच्चे हमेशा पॉजिटिव होते हैं और उनका कॉन्फिडेंस लेवल भी दूसरों के मुकाबले हाई होता है।