राष्ट्रपति चुनाव से संबंधित कुछ अहम बातें

0
6

नई दिल्ली । देश के अगले राष्ट्रपति के चुनाव के लिए तारीखों की घोषणा की जा चुकी है। भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त नसीम जैदी के मुताबिक राष्ट्रपति चुनाव के लिए चुनाव आयोग 14 जून 2017, बुधवार को अधिसूचना जारी करेगा। नामांकन की आखिरी तारीख 28 जून 2017 निर्धारित की गई है। नामांकन पत्रों की जांच 29 जून गुरुवार को होगी।नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख 1 जुलाई शनिवार को है।अगर वोटिंग की जरूरत पड़ी तो 17 जुलाई को वोटिंग होगी और वोटों की गिनती 20 जुलाई को होगी। वोटिंग का समय सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक है। इसके अलावा चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर कुछ बेहद अहम जानकारियां भी दी है।

– राष्ट्रपति चुनाव में मतदाता पत्र यानी बैलेट पेपर से होगा मतदान
निर्वाचन आयोग ने बताया है कि राष्ट्रपति के लिए वोटिंग संसद भवन और राज्य विधानसभाओं में होगी और वेटिंग बैलेट पेपर के जरिए होगी।संविधान के मुताबिक राष्ट्रपति चुनाव प्रक्रिया पूरी तरह गोपनीय है, किसी भी स्थिति में बैलट किसी और को दिखाना संविधान के विरुद्ध है।

-मतदान के लिए होगा विशेष पेन का इस्तेमाल ,बाकी वोट अमान्य मुख्य निर्वाचन आयुक्त नसीम जैदी ने बताया कि ‘वोट डालने के लिए आयोग विशेष पेन का इंतजाम करेगा।यह पेन निर्वाचन आयोग के अधिकारी द्वारा वोट डालने वाले को दिया जाएगा। सिर्फ इसी पेन से डाले गए वोट को ही माना जाएगा। इसके अलावा किसी और पेन से डाले गए वोट मान्य नहीं होंगे।

-वोटिंग के लिए कोई पार्टी व्हिप जारी नहीं कर सकती
नसीम जैदी ने कहा कि यह स्पष्ट किया जाता है कि कोई भी राजनीतिक दल अपने सांसदों और विधायकों को राष्ट्रपति चुनाव में वोटिंग के लिए किसी भी तरह की व्हिप जारी नहीं कर सकते।”
-ऐसे सांसद और विधायक नहीं डाल सकते वोट चुनाव आयोग ने बताया कि राष्ट्रपति का चुनाव संसद को दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्य, दिल्ली और केंद्र शाशित प्रदेश पुद्दुचेरी की समेत सभी राज्यों के निर्वाचित विधायक वोट करते हैं।राज्यसभा, लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के नामित सदस्य इस चुनाव में वोट नहीं दे सकते।

-नामांकन के लिए 50 प्रस्तावकों और 50 अनुमोदकों के हस्ताक्षर जरूरी
राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के नामांकन पेपर पर प्रस्तावकों के रूप पर कम से कम 50 निर्वाचकों और कम से कम 50 अनुमोदकों के हस्ताक्षर होने आवश्क हैं। यदि ऐसा नहीं होता है तो उम्मीदवार का नॉमिनेशन रद्द कर दिया जाएगा। कोई निर्वाचक सिर्फ एक ही उम्मीदवार के नॉमिनेशन पेपर पर प्रस्तावक या अनुमोदक के रूप में हस्ताक्षर कर सकता है।

-कौन होगा राष्ट्रपति चुनाव में रिटा\नग ऑफीसर?
चुनाव आयोग ने बताया कि राष्ट्रपित चुनाव के लिए लोकसभा और राज्यसभा के महासचिव बारी बारी से रिटा\नग ऑफीसर होते हैं।इस बार के चुनाव के लिए लोकसभा के सचिव को रिटा\नग ऑफीसर नियुक्त किया गया है। इसके अलावा हर राज्य में एक सहायक रिटा\नग ऑफीसर भी नियुक्त किया जाएगा। अगर किसी परिस्थिति में सहायक रिटा\नग ऑफीसर उपस्थिति नहीं होते हैं तो एक सेकेंड सहायक रिटा\नग ऑफीसर की भी नियुक्ति की जाएगी।