मानसून में इस प्रकार दमकती रहें

0
13

मॉनसून के मौसम में बारिश और उमस के कारण होने वाले पसीने से चेहरे व त्वचा पर गंदगी जल्दी जमती है, जिससे मुहांसे हो जाते हैं या लाल दाने पड़ जाते हैं हालांकि रोजाना अच्छी तरह शरीर और त्वचा की सफाई और सही उत्पादों के इस्तेमाल से इन समस्याओं से दूर रहा जा सकता है।

त्वचा के रोम छिद्रों को हार्ड ऑयल से बचा कर रखें और चेहरे के तैलीयपन को दूर करना न भूलें। चेहरे की सफाई के बाद एस्ट्रिंजर टोनर लगाएं। रूई के फाहे से फिर चेहरे को पोछ ले. आप गुलाब जल और विच हेजल को समान मात्रा में मिलाकर भी चेहरे पर लगा सकती है और फिर थोड़ी देर बाद रूई के फाहे से चेहरे को पोछ लें।
अगर चेहरे पर दाने, मुहांसे हो गए हैं तो मेडिकेटेड साबुन या क्लिंजर से दिन में दो बार चेहरे को धुलें। दिन में कई बार सादे पानी से चेहरे को धुलें। आप गुलाब के सत्व से युक्त स्किन टोनर भी लगा सकती हैं, जो न सिर्फ त्वचा की सफाई करता है, बल्कि सामान्य एसिड एल्कालाइन बैलेंस भी बनाए रखता है।

चेहरे पर अगर धब्बे हैं तो धब्बे वाली जगह पर फेशियल क्रब लगाएं, लेकिन कील, मुहांसे या दाने होने पर क्रब का इस्तेमाल न करें। धब्बे वाली जगह पर गुलाब जल में चावल का पाउडर मिलाकर रोज लगाएं और हल्के हाथों से मलें। पांच मिनट के लिए लगा रहने दें और फिर इसे पानी से धो लें। यह हर सुबह चेहरे को साफ करने के बाद करना चाहिए।
मॉनसून में पैरों की देखभाल भी करें, ताकि फंगल इंफेक्शन न हों। पैरों को अच्छे से धुलकर व पोछकर टैल्कम पाउडर लगाएं। गर्मी और उमस के दौरान ओपन फुटवेयर पहनें, ताकि ज्यादा पसीना नहीं निकले, इससे आपके पैरों में फंगल इंफेक्शन नहीं होगा।

मॉनसून में बालों में अच्छी कंपनी का शैम्पू और कंडीशनर लगाएं, जिससे बालों में नमी बरकरार रहे। नियमित तौर पर तेल से अच्छे से मसाज करें, जिससे बालों की जड़ें मजबूत होती हैं। आप स्टीमिंग भी कर सकती हैं।
मॉनसून के दौरान नाखूनों को साफ रखें, ताकि किसी प्रकार की बीमारी या इंफेक्शन नहीं हो। सावधानी के साथ मैनीक्योर और पैडीक्योर कराएं। इस दौरान एंटीसेप्टिक पानी में ही हाथ या पैरों को डुबोएं और उपकरण भी साफ होने चाहिए।