मानव मस्तिष्क में चेहरे को पहचानने की होती है अद्भुत क्षमता : शोध

0
307

नई दिल्ली । एक ताजा शोध में दावा किया गया है कि मानव मस्तिष्क में चेहरे को या वस्तुओं को पहचानने की अद्भुत क्षमता होती है। हमारा मस्तिष्क अपनी स्मृति में बहुत पुरानी बातों को संग्रहित करके रखता है। जैसा कि कई बार आपके साथ भी ऐसा हुआ होगा जब किसी अंजान व्यव्ति से मिलकर आपको लगा होगा कि आप शायद उससे पहले मिले हैं या वो चेहरा जाना-पहचाना है। कई बार अनायास ही किसी अजनबी से मिलकर आपके मुंह से निकला होगा क्या हम पहले कभी मिल चुके हैं? हाल ही में किए गये एक अनुसंधान के मुताबिक मस्तिष्क में चेहरों को पहचानने की अद्भूत क्षमता होती है। वह किसी भी चेहरे को कुछ हजार सेकेंड के हिस्से के बराबर समय में ही पहचान लेता है। इतना ही नहीं, यह याददाश्त दशकों तक दिमाग में रहती है। कॉलटेक बायालोजिस्ट ली चैंग और वाई टीसाओ ने यह शोध किया है। शोधकर्ताओं ने इलेक्ट्रिकल रिका\डग्स के जरिए प्रयोग किया जिसमें मस्तिष्क की कोशिकाओं न्यूरॉन्स की प्रतिप्रियाओं को रिकॉर्ड किया गया। ये कोशिकाएं इलेक्ट्रिक सिग्नल के जरिए उस समय प्रतिप्रिया देते हैं जब रेटिना में मौजूद चेहरा पहचान में आता है। रिसर्च के नतीजों में पाया गया कि इस पूरी प्रप्रिया में सिर्फ 200 फेस सेल्स की जरूरत पड़ती है। हालांकि अभी इस पर और रिसर्च जारी है और अन्य लैब्स में इस पर प्रयोग चल रहा है।