मसल्स को मजबूत बनाने के लिए कब और क्या खायें, जानिए

0
127

वजन के घटने के साथ मांसपेशिया भी कमजोर होने लगती है। मालूम हो, बढ़ती उम्र भी मांसपेशियों के कमजोर होने का एक कारण होता है। लेकिन अगर आप चाहते हैं कि आपकी मांसपेशियां और त्वचा दोनों ही टोंड रहें तो इसके लिए आप संतुलित आहार का सेवन करें। संतुलित आहार के सेवन को अगर सही समय पर किया जाए तो ये ज्यादा फायदेमंद होता है। इस लेख में विस्तार से जानिये मांसपेशियों को लिए कब और क्‍या खायें।

मांसपेशियां मजबूत करने वाले आहार मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी है। पानी के बाद हमारे शरीर के लिए सबसे जरूरी पौष्टिक तत्‍व प्रोटीन माना जाता है। हड्डियों की मजबूती, मांसपशियों का कार्य, मसल मास, इम्यून सिस्टम सभी कुछ प्रोटीन की मात्रा कम होने पर प्रभावित हो जाते हैं।

द नेशनल एकैडमी ऑफ सांइस की शोध के अनुसार सही मात्रा और सही समय पर प्रोटीन का सेवन ना केवल सामान्य स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है, बल्कि वजन को घटाने और मांसपेशिया मजबूत करने में भी सहायक होता है। वजन कम करने के लिए सही मात्रा में प्रोटीन का प्रयोग मांसपेशियों को कमजोर होने से रोकता है और तेजी से वजन कम करता है। प्रोटीन से भरपूर कई सारे आहार होते हैं, जैसे- डेयरी प्रोडक्ट, सीफूड, सोया, अनाज, दही आदि।

समय का ध्यान जरूरी संतुलित आहार का सबसे अच्छा प्रभाव तब पड़ता है जब आप उसे ठीक समय पर लें। अगर आप हाई प्रोटीन आहार का सेवन करने वाले हैं तो इसे वर्कआउट से तुंरत 20 मिनट पहले या बाद में ले। जब आप वर्कआउट करते हैं तो आपकी मसल्स कमजोर हो जाती हैं। हाई प्रोटीन आहारों के साथ थोड़ा सा कार्बोहाइड्रेट और न्यूट्रीशंस का सेवन करने से वर्कआउट से टूटी हुई मसल्स मजबूत होती हैं।

हाई प्रोटीन के सेवन के साथ पानी पीना ना भूलें। क्योंकि आपको अपने शरीर को हाइड्रेट करना भी उतना ही जरूरी है। वर्कआउट से पहले स्किम मिल्क ले सकते हैं और वर्कआउट के बाद योगर्ट का सेवन अच्छा होता है। योगर्ट मे मौजूद हाई-क्वालिटी प्रोटीन प्रोबॉयोटिक्‍स ये भरपूर होता है जो गैस्ट्रोइन्टेस्टनल ट्रैक्ट को भी स्वस्थ रखता है। इसके साथ ही इसमे हाई-क्वालिटी कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, पोटैशियम और मैग्नीशियम भी होता है। ये पोषक तत्व मसल्स को मजबूत बनाने में सहायक होते हैं।

प्रोटीन की मात्रा को एक साथ लेने की बजाय दिनभर में थोड़ा-थोड़ा करके लेना लाभदायक होता है। इसलिए खाने को ए‍क बार में खाने की बजाय टुकड़ों में खायें।