भारतीय इतिहास का सबसे गलत और नुकसानदेह फैसला है नोटबंदी: अमेरिका रिपोर्ट

0
8

नई दिल्ली,  । भारत में 500 और 1000 के नोटों पर प्रतिबन्ध लगाने के पीएम नरेन्द्र मोदी के फैसले को अमेरिका की एक मैगजीन ने इसे इतिहास का सबसे बड़ा गलत और नुकसानदायक फैसला करार दिया है। साथ ही फैसले को लेकर पीएम नरेन्द्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि भारत में साल 2016 के 8 नवम्बर को भारतीय पीएम नरेन्द्र मोदी ने रात आठ बजे देश में मौजूद 500 और 1000 के नोटों पर प्रतिबन्ध लगा दिया था। पीएम नरेन्द्र मोदी के इस फैसले को लेकर विश्वभर के कई जाने माने दिग्गजों ने कड़ी प्रतिक्रया दी थी, उन्होंने मोदी के फैसले को नुकसानदेह बताया था|

उसी कड़ी में अमेरिका की चर्चित मैगजीन `फॉरेन अफेयर्स` के ताजा अंक में लेखक जेम्स क्रेबट्री ने लिखा है कि नोटबंदी ने साबित कर दिया है कि वह सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाला प्रयोग था। इस फैसले को उन्होंने इतिहास का सबसे बड़ा नुकसानदेह फैसला बताते हुए लेख में कहा कि इस फैसले के (नोटबंदी) चलते देश की अर्थव्यवस्था रुक गयी है। मैगजीन के हवाले से दाबा किया गया है कि नोटबंदी के फैसले से भारत की कैश आधारित अर्थव्यवस्था ठहर गयी है। इसका दूरगामी नुकसान भारत को उठाना पडेगा।

गौरतलब है कि नोटबंदी के फैसले पर जेम्स क्रेबट्री पहले भी विरोध कर चुके हैं। जेम्स सिंगापुर में ली कुआन यू स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी में सीनियर रिसर्च फैलो हैं। उन्होंने अपने लेखा में लिखा है कि नोटबंदी से जो उम्मीद लगाई जा रही थी। वह हो नही सका। हालाँकि उन्होंने कहा कि नोटबंदी के कारण भारतीय पीएम नरेन्द्र मोदी चर्चा में खूब रहे, लेकिन नोटबंदी से भारतीय अर्थव्यवस्था को बड़ा नुकसान हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here