बेल का फल करेगा आपकी ये बीमारियां दूर

0
116

बेल का फल हांलाकि बहुत कठोर होता है पर इसके अंदर का गुदा मुलायम और बीजदार होता है जो की बहुत उपयोगी है। बेल का फल पेड़ से टूटने के बाद भी काफी लम्बे समय तक सही रहता है इस फल का उपयोग कई प्रकार की दवाईयां बनाने से लेकर भोजन में कई प्रकार के स्वादिष्ठ भोजन बनाने में किया जाता है।

ब्लड प्रेशर पर कंट्रोल बेल की पत्तियां हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में सहायक हैं। इसके लिए पत्तियों को पानी में उबाल लें और इसे छानकर पानी को पी जाएं। ब्लड प्रेशर सामान्य हो जाएगा। अस्थमा का अटैक आने पर या दिल की धड़कन असमान्य हो जाए तो बेल की जड़ का काढ़ा बनाकर पीने से आराम मिलता है।

लू से बचाता है बेल पेट के रोगों को दूर करता है। साथ ही ये आंतों को भी साफ करता हैं। कब्ज, अपच, पेप्टिक अल्सर आदि होने पर इसका सेवन जरूर करना चाहिए। गर्मी में लू से बचने के लिए पके हुए बेल के गूदे को हाथ से मसल लें। इसे पानी में मिलाकर छान लें, चाहें तो इसमें चीनी भी मिला सकते हैं। इसे पीने से लू नहीं लगेगी।

सेहतमंद लिवर गर्मी में अक्सर ही शरीर में जलन की शिकायत होती है। इसके लिए कच्चे बेल की गिरी को तोड़कर तिल के तेल में डालकर दो-तीन दिन के लिए रख दें। अब इससे शरीर की मालिश करें, आपको ठंडक मिलेगी। ये थियामाइन, रिबोफ्वेलिन और बीटा-कैरोटीन का भी बेहतर स्त्रोत है। ये सभी तत्व लिवर संबंधी समस्याओं को ठीक करने में मदद करते हैं।

खून साफ करने में सहायक बेल के रस में कुछ मात्रा गुनगुने पानी की मिला लें। इसमें थोड़ी सी मात्रा में शहद डालें। इस पेय के नियमित सेवन से खून साफ हो जाता है।

महत्त्वपूर्ण सुचना: यहाँ दी गई जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हरसम्भव प्रयास किया गया है। यहाँ उपलब्ध सभी लेख पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए है और इसकीनैतिक जि़म्मेदारी www.braahmi.com  की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपनेचिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। आपका चिकित्सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्प नहीं है।