बरसात के दिनों में त्वचा की देखभाल कैसे करें?

0
78

बरसात का मौसम तपती दोपहर और झुलसाती गर्मी और पसीने से राहत लेकर आता है लेकिन साथ ही अपने साथ उमस और बदलते तापमान के बीच कई तरह के इन्फेक्शन भी लेकर आता है। बरसात के इस मौसम का सभी लुत्फ़ उठाना चाहते हैं लेकिन इस मौसम में होने वाले नुकसान और उनसे बचाओ के उपायों को अपनाने के बारे में अक्सर लोग भूल जाते हैं।

बरसात का मौसम आने के साथ ही आपके लिए अपनी त्वचा की अतिरिक्त देखभाल की चिंता करना काफी आवश्यक होता है, क्योंकि यह एक ऐसा समय होता है जब वातावरण में कई तरह के छोटे छोटे जीवाणु फैले रहते हैं जो आपकी त्वचा को संक्रमित करके आपको परेशान कर सकते हैं। साफ़ सफाई और देखभाल ऐसे दो कारक हैं जिनके बारे में आपको इस समय सबसे ज़्यादा सोचना चाहिए। त्वचा की देखभाल कैसे की जाए:

बरसात में होने वाली समस्याएँ

त्वचा में होने वाले बैक्टीरियल और फंगल इन्फेक्शन बरसात के मौसम में आम समस्याएँ हैं। गंदे पानी के संपर्क में रहने से पैर के अंगूठों में इन्फेक्शन होने लगता है इसके अलावा एलर्जी और खुजली जैसी समस्याए भी इस मौसम में देखने को मिलती हैं।

बरसात में अलग अलग प्रकार की त्वचा की देखभाल के लिए सर्वोत्तम उपाय

सूखी त्वचा के लिए त्वचा की देखभाल के लिये घरेलू त्वचा स्क्रब
सूखी त्वचा का कारण शरीर में विटामिन्स की कमी का होना है जो त्वचा की मरम्मत का कार्य करती हैं। शुष्क त्वचा के उपाय, बरसात में सूखी त्वचा की स्थिति खराब होने लगती है।सूखी त्वचा वाले लोगों को इस मौसम में खूब पानी पीना चाहिये जिससे शरीर में तरलता बनी रहे और टोक्सिन बाहर निकलते रहें। इस मौसम में अल्कोहल वाले टोनर का प्रयोग न करें।
जोजोबा ऑइल, ताजा दही और शहद का पैक बना कर चेहरे पर लगायें और 10 मिनिट बाद धो लें यह बरसात में सूखी त्वचा वालों के लिए एक असरदार उपाय है।
शुष्क त्वचा की देखभाल, बादाम और शहद का पेस्ट बना कर चेहरे पर लगायें और 5 मिनट बाद गर्म पानी से धो लें।

तैलीय त्वचा के लिए वंशानुगत हार्मोन्स के बदलावों के कारण स्किन ऑयली हो जाती है जिसे बदला नही जा सकता, पर दिन 2 से 3 बार चेहरा धोने पर अतिरिक्त तेल को हटाया जा सकता है।तैलीय त्वचा से मुक्ति, प्राकृतिक उत्पादों से ही चेहरे का स्क्रब करें।
बेसन, दूध, शहद और नीबू के बने हुये फेस से चेहरे को धोने पर ऑयली स्किन वाला चेहरा ताज़ा नज़र आने लगता है।
गर्म या गुनगुने पानी से चेहरा धोएं।
किसी अच्छे तेल में गुलाब जल मिलाकर चेहरे पर मॉइस्चराइजर के रूप में लगायें और 10 मिनिट बाद चेहरा धो लें इसे त्वचा तेल रहित और स्वस्थ हो जायेगी।

संयुक्त (ड्राई + ऑयली) त्वचा के लिए स्किन की देखभाल, इस तरह की त्वचा विशेष देखभाल की ज़रूरत होती है सूखी त्वचा वाला स्थान नियमित रूप से मॉइस्चराइज किया जाना चाहिये और साथ ही तैलीय स्थान को भी प्राकृतिक तरीके से उबटन करना चाहिये। पर्याप्त मात्रा में पानी पीना त्वचा के स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छा इलाज होता है।

बरसात में त्वचा को सुरक्षित रखने के उपाय 

  • त्वचा को नियमित रूप से प्राकृतिक क्लींजर धीरे धीर रगड़ कर धोना चाहिये।
  • बरसात में पानी जितना ज्यादा हो सके उतना पियें क्यूंकि याद रखें इस मौसम में आपकी त्वचा आपसे कहीं ज्यादा प्यासी होती है।
  • त्वचा के पी एच (pH) बैलेंस को बनाये रखने के लिए हर वाश के बाद टोनर का उपयोग ज़रूर करें।
  • त्वचा को अच्छे क्लींजिंग एजेंट से धूल व गंदगी से मुक्त रखें तथा बरसात में प्राकृतिक उपयों को ही अपनाएँ।
  • बरसात के मौसम में अपने पैरों व शरीर को गंदे पानी से बचा कर रखें और जूते चप्पल आदि को भी सुखा कर ही पहने, इस मौसम में इन्फेक्शन बहुत जल्दी फैलता है।

बरसात के मौसम में एक्ने और मुहांसे दूर करने के घरेलू नुस्खे

मुहांसे  मुहांसों को दूर करने के लिए मुल्तानी मिट्टी, लौंग के तेल, चन्दन के पाउडर और नीम की पत्तियों का एक पेस्ट तैयार करें। इस पेस्ट का निर्माण करके लम्बे समय के लिए छोड़ दें और सिर्फ मुहांसों पर इसका प्रयोग करें।

एक्ने बरसात के मौसम में एक्ने एक काफी सामान्य समस्या का रूप ले लेती है। इसे ठीक करने के लिए मुल्तानी मिट्टी, कपूर और लौंग के तेल को पानी के साथ मिश्रित कर लें। इसे धोने के लिए फ्रिज (fridge) के ठंडे पानी का प्रयोग करें।

मानसून के दौरान त्वचा की देखभाल करने के तरीके 

रुखी त्वचा के लिए श्रेष्ठ SPF क्रीम – ड्राई स्किन के लिए बेस्ट सनस्क्रीन
टमाटर का नुस्खा आपको शायद यह बात पता ना हो पर टमाटर मानसून के मौसम में आपकी त्वचा की बेहतरीन तरीके से देखभाल करने में काफी प्रभावी साबित होता है। टमाटर के नुस्खे के प्रयोग से आप अपने चेहरे में नयी जान डाल सकते हैं। इसके लिए टमाटर लें जिनका गूदा रसभरा हो। अब इसके रसभरे भाग को चेहरे पर लगाएं और इसे तब तक छोड़ दें, जब तक कि यह पूरी तरह सूख ना जाए। इसके बाद आप इसे धो सकते हैं। बरसात के मौसम के दौरान इस नुस्खे का इस्तेमाल करने से आपकी त्वचा काफी चमकदार एवं जवान दिखने लगेगी।

सही और स्वास्थ्यकर खानपान बरसात के मौसम के समय खानपान का स्वास्थ्यकर होना काफी आवश्यक है जिससे आपकी त्वचा स्वस्थ और सुन्दर बनी रह सके। इस समय आपके लिए यही बेहतर होगा कि आप हर प्रकार के तैलीय और मसालेदार तरह के भोजनों से परहेज करें जो कि बाहर बनाए जाते हैं। बाहर पकाया गया खाना साफ़ सुथरा एवं स्वास्थ्यप्रद नहीं होता। आपके घर के आसपास काफी मात्रा में बारिश का पानी जमा हो जाने की वजह से कई तरह के जीवाणुओं को पनपने का मौक़ा मिल जाता है। इसके फलस्वरूप वे आपकी त्वचा पर हमला करते हैं और अनेक प्रकार के संक्रमणों को जन्म देते हैं। इसके अलावा यह भी जानकर रखना काफी ज़रूरी है कि आप जो भी भोजन ग्रहण करते हैं, वह आपकी त्वचा के स्वास्थ्य में झलकता है। हर तरह के विटामिन्स (vitamins) और खनिज पदार्थों से युक्त संतुलित आहार ग्रहण करने का प्रयास करें।

त्वचा की टोनिंग अपने चेहरे को सिर्फ क्लीन्ज़र या फेस वाश  से साफ़ करना ही काफी नहीं होता। आपको इसके अलावा एक प्रभावी टोनिंग के उपचार की भी व्यवस्था करनी चाहिए। इससे आपकी त्वचा के रोमछिद्र (pores) खुलेंगे और वे सांस ले पाएंगे। रोमछिद्रों के खुल जाने से आपकी त्वचा अपने अन्दर पर्याप्त मात्रा में नमी को सोखने में सफल हो सकती है। ऐसे टोनर का प्रयोग करें जो अच्छा हो और जिसका बाज़ार में अच्छा खासा नाम हो। इसके अलावा यह भी सुनिश्चित करें कि यह टोनर आपकी त्वचा के प्रकार के अनुरूप हो। इसे एक रुई के कपड़े में लें और अपनी सारी त्वचा, खासकर त्वचा और गले पर लगाएं। एक बार टोनर का इस्तेमाल कर लेने के बाद आपको खुद ही काफी फर्क महसूस होगा।

एलोवेरा जेल यह एक प्राकृतिक नुस्खा है जो आपकी त्वचा को बरसात के मौसम के दौरान हर तरह के बैक्टीरिया (bacteria) से बचाकर रखता है। स्नान करने के तुरंत बाद ऐसा हो सकता है कि आपके शरीर में काफी खुजलाहट शुरू हो जाए। ऐसी स्थिति में नहाने के पानी में एंटीसेप्टिक (antiseptic) द्रव्य की कुछ बूँदें मिश्रित करें और इस पानी से स्नान करें। स्नान करने के बाद एलोवेरा का जेल अपने सारे शरीर में लगाना ना भूलें। इससे आपकी त्वचा हर प्रकार के बैक्टीरिया और जीवाणुओं से दूर रहेगी जो आपके लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं। बरसात के मौसम में स्वस्थ रहने के लिए इस उपचार का नियमित प्रयोग करें।