बच्चे को सिखायें बेहतर बातें 

0
19

बच्चे देश और दुनिया का भविष्य होते हैं और आने वाली नई पीढ़ी ही भविष्य का निर्धारण करती है पर आजकल किसी के पास उन्हें अच्छी बातें सिखाने का समय ही नहीं है। लोग आगे निकलने और पैसा कमाने की अंधी दौड़ में यह भूल गये हैं कि बच्चे उनकी असली पूंजी हैं। आज के समय में इस प्रकार बच्चों को सिखायें अच्छी बातें।

सही संस्कार दें
कहते हैं बच्चे देश और दुनिया का भविष्य होते हैं और आने वाली नई पीढ़ी ही भविष्य का निर्धारण करती है। ऐसे में ये बेहद जरूरी है कि बच्चों को सही संस्कार और शिक्षा दी जाए और उन्हें एक आदर्ष व्यक्तित्व पाने में मदद की जाए। लेकिन आगे निकलने और पैसा कमाने की अंधी दौड़ के इस दौर में बच्चों को अच्छी बातें कैसे सिखाई जाएं? बच्चे बताने से ज्यादा आसपास के महौल से देख कर सीखते हैं। साथ ही उन्हें बचपन से ही सही तरीके से समझाने की जरूरत होती है। बच्चों को बचपन से ही त्याग, ममता, प्यार, अनुसाषन और प्रगती की शिक्षा देनी होती है। साथ ही उन्हें ये भी सिखाना पड़ता है कि एक दूसरे की मदद कर ही प्रगति की जा सकती है और त्याग व ममता जैसे गुण एक अच्छे व्यक्तित्व का निर्माण करते हैं और न सिर्फ अनके बल्कि देश के अज्वल भविष्य को भी तय करते हैं। तो चलिए जानें कि अपने बच्चे में ये गुण कैसे डाले जाएं और इनके क्या फायदे होते हैं।

बच्चे को बांटना सिखाएं
बच्चे चीजों को बांटना तभी सीखते हैं, जब वे अपने से बड़ों को ऐसा करता देखते हैं। अगर वो आपको लालच करता हुए देखेंगे तो कभी भी चीज़ें बांटना नहीं सीख पाएंगे। आज के दौर के छोटे बच्चों में देखा जाता है कि वे अपनी चीजें या खिलौने आदि को शेयर करना बिल्कुल पसंद नहीं करते। ऐसा उनके ज्यादातर अकेले रहने और सामाजिक न होने के कारण अधिक होता है, और ये अनके भविष्य के लिए बिल्कुल अच्छा नहीं होता है। तो अपने बच्चों के सामने व उनके साथ चीज़ें बांटें। इस मामले में माता और पिता दोनों की अहम भूमिका होती है, खासतौर पर पिता की। पिता होने के नाते आपको अपने बेटे को कई ज़रूरी बातें सिखलानी होती हैं। और एक बढ़ता हुआ बेटा अपने पिता से बहुत कुछ सीखता भी है। तो उसे अच्छी चीजें सीखाने के लिए खुद भी उसके सामने अच्छी चीजों के उदाहरण पेश करें। उसे सिखाएं कि परिवार में कब और किसे आपकी जरुरत है, और इसे कैसे समझें और अपनी जिम्मेदारी को निभाएं।

सहायता करने तैयार रहें
अक्सर हम जब पब्लिक ट्रांसपोर्ट या किसी अन्य स्थान पर किसी को किसी दूसरे ज़रूरतमद की मदद करते देखते हैं और बहुत खुशी होती है और खुद को भी ऐसा करने की प्रेरणा मिलती है। तो जब आप बस या ट्रेन में सफर कर रहे हों तो इस दौरान अगर कोई गर्भवती महिला या बुर्जुग खड़ा है तो उसे अपनी सीट दें और फिर अपने बच्चों को भी बताएं की आपने उसकी मदद क्यों की है और उसको भी बड़ा होकर ऐसा करना चाहिए।

विनम्रता से बात करना सिखाएं
बच्चे को विनम्रता से बात करना सिखाएं और जब भी आप किसी से कुछ मांगे तो ख्याल रखें कि प्लीज कह कर ही बात करें। अगर आप बच्चे के सामने सज्जनता से व्यवहार करेंगे तो वो भी इससे सिखेगा। लेकिन ध्यान रहे कि कोई भी चीज़ आप अपने बच्चे को ज़बरदस्सी नहीं सिखा सकते हैं। आपको प्यार के साथ उसे खुद उदाहरण पेश कर व समझा कर उसे सिखाना होगा। आपको उसे अच्छा काम करने पर शाब्बाशी भी देनी चाहिए और उसका अत्साहवर्धन करना चाहिए।