निजी जिंदगी पर भी असर डालता है मोटापा

0
37

लंदन । मोटापा से पीड़ितों को कई अन्य बीमारियों का खतरा बना रहता है। साथ ही शोधकर्ताओं की माने तो इसका असर लोगों की निजी रिश्तों पर भी पड़ता है। येल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं द्वारा किए गये एक अनुसंधान के मुताबिक ऐसे पिता जिनका वजन बहुत ज्यादा नहीं बढ़ा होता यानि जो ओवरवेट नहीं होते उनका अपने बच्चों के साथ अच्छे रिश्ते होते हैं।

प्रमुख शोधकर्ता रिचर्ड का कहना है कि ऐसे पुरुष जिनका वजन बहुत ज्यादा नहीं होता ने ना सिर्फ अपने बच्चों के प्रिय पिता होते हैं बल्कि वे लंबे समय तक जीते भी हैं। इतना ही नहीं, ऐसे लोग बच्चों में अच्छे जीन (आनुवांशिक पदार्थ) पहुंचाते हैं और विपरीत लिंग के लिए आकर्षक भी होते हैं। साल 2015 में एक रिपोर्ट में `डैड बोड’ टर्म का इस्तेमाल हुआ।

इस रिपोर्ट में उन पुरुषों की फिगर के बारे में डिस्प्राइब किया गया जिनके कम से कम दो बच्चे हैं। ये लोग ना सिर्फ जिम करते हैं बल्कि सप्ताहांत पर खूब बीयर भी पीते हैं। शोध में यह भी पाया गया कि जो कम वजन वाले पुरुष होते हैं बढ़ती उम्र में वे दिल का दौरा और प्रोस्टेट कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से भी बच जाते हैं। इतना ही नहीं, शोध में यह भी पाया गया कि कम मोटे पुरुष अपने बच्चों पर ज्यादा ध्यान देते हैं। वहीं दूसरी ओर मोटापे से पीड़ित पुरुष अपने लुक्स पर अधिक ध्यान देते हैं और उन्हें चिंता सताती है कि महिलाओं में वे आकर्षण का केंद्र है या नहीं। मोटापा के कारण पुरूष हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन का स्तर भी कम होता है क्यों इससे मसल्स मास कम होता है और फैट मास अधिक बढ़ता है।