दिल की बीमारी हो सकती है नारियल तेल से

0
16

-अमेरिकी वैज्ञानिक ने किया खुलासा | वाशिंगटन । हाल ही में अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन द्वारा प्रकाशित डायटरी फैट्स कार्डियोवेस्कूलर डिसीज जर्नल में कुछ अलग ही बताया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, नारियल का तेल का सेवन मक्खन और सैचुरेटेड फैट्स के अन्य Œााsत से भी बदतर है। सैचुरेटेड फैट के सेवन को लंबे समय से कार्डियोवेस्कुलर डिसीज की घटना में बढ़ोत्तरी से जुड़ा है।

एसोसिएशन ने कहा ‘क्लिनिकल ट्रायल्स जिसमें सैचुरेटेड फैट्स को पॉलीअनसैचुरेटेड फैट्स से बदलने के लिए यूज किया गया था। सैचुरेटेड फैट्स का मुख्य सोर्स जिसे घटाया गया, उसमें मक्खन, पोर्प, पाम ऑइल, पाम कर्नेल ऑइल और नारियल तेल शामिल था।’एसोसिएशन ने पाया कि नारियल तेल में 80 प्रतिशत सैचुरेटेड फैट है और यह अन्य पदार्थों जैसे पीनट बटर, पोर्प आदि की तुलना में काफी अधिक है।

डाइट में सैचुरेटेड फैट की अधिकता हाई कोलेस्ट्रॉल और हृदय रोगों के सबसे बढ़े कारणों में से है। विशेषज्ञों के मुताबिक बेहतर स्वास्थय के लिए अनसैचुरेटेड वेजिटेबल ऑइल के सेवन की सलाह दी है। अभी तक नारियल के तेल को स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छे तेलों में से एक माना जाता रहा है। खाना बनाने से लेकर खूबसूरती बढ़ाने तक, इसे कई उद्देश्यों के लिए प्रयोग में लिया जाता है।

माना जाता है कि नारियल तेल पाचन में सुधार, प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने, वजन घटाने, बालों को स्वस्थ रखने, त्वचा में निखार लाने और हृदय के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए माना जाता है। दिल्ली के वेट मैनेजमेंट एक्सपर्ट ड़ॉ गार्गी शर्मा ने कहा, ‘नारियल तेल में पॉलीफेनोल होता हैं जो कि एंटीऑक्सिडेंट्स के रूप में काम करता हैं। यह विटामिन ई, विटामिन के और खनिज जैसे लोहे के रुप में भी समृद्ध है।’