टीवी और मोबाइल कर रहा आंखे खराब 

0
36

आजकल की जीवनशैली को देखते हुए लोगों में कमजोर आंखों का दोष पाया जाना कोई हैरानी वाली बात नहीं है। आजकल ना सिर्फ उम्रदराज लोग बल्कि बच्चों के भी चश्मा लगा हुआ है। इसके मुख्य कारणों में दिनभर फोन और टैबलेट में आंखे गढ़ाए रहना, छोटे बच्चों का आधे से ज्यादा टीवी से चिपके रहना, बालों में कलर और तरह-तरह के एक्सपेरिमेंट करना, तनाव भरा जीवन और अनियमित खानपान शामिल हैं।

इसके अलावा एक शक्तिशाली प्रकाश में निरंतर पढ़ना, पाचन विकार, असंतुलित खाने और भोजन में विटामिन ए की कमी भी कमजोर दृष्टि के लिए जिम्मेदार हैं। डॉक्टरों की रिपोर्ट में इस बात को बार-बार मान्यता दी गई है कि जो लोग अधिक शराब का सेवन करते हैं उनमें भी जल्दी कमजोर आंखों का विकार देखा जाता है।

आधुनिक पर्यावरण में कई चीजें ऐसी हैं जो आंखों की रोशनी कम होने की वजह हो सकती हैं। आजकल छोटे-छोटे बच्चों पर पढ़ाई का काफी ज्यादा दबाव है। अच्छे नम्बर लाने के दबाव के चलते बच्चे परीक्षा के वक्त रात-रातभर पढ़ते हैं। जिससे आंखें लाल हो जाती हैं, जलन, पानी आना, धुंधला दिखना या डबल दिखना जैसी समस्या होती हैं। अगर आपके या आपके बच्चों के साथ कुछ ऐसा हो रहा है तो घबराने की जरूरत नहीं है। कुछ सरल उपाय अपनाकर हम अपने बच्चों की आंखों की रोशनी को धुंधली पड़ने से बचा सकते हैं।

आंखों की मालिश
इन उपायों में सबसे पहले आता है आंखों की मालिश करना। जी हां, आंखों की मालिश करने से ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है और आंखों के आसपास की मांसपेशियों को आराम मिलता है। मालिश से टियर ग्लैंड भी ठीक काम करेंगे और सूखेपन का अहसास नहीं होगा। आंखों की ये मालिश करना बहुत आसान है। मालिश के लिए उंगलियों से पलकों और भौहों के आसपास की 10-20 सेकंड तक मालिश करें। थकावट को दूर करने के लिए हथेलियों से मालिश करें। इसके लिए हथेलियों को तब तक रगड़ें जब तक कि गरम न हो जाएं और फिर हथेलियों को बंद पलकों पर रख दें। ऐसा करने से आपको तुरंत ही थोड़ा बहुत आराम मिलना शुरू हो जाएगा।

आंखों के लिए एक्सरसाइज
आंखों की एक्सरसाइज के लिए आप एक पेन या पेंसिल को एक हाथ की दूरी पर आंखों के सामने पकड़ें और धीरे-धीरे उसे अपनी ओर ले आएं। उसे तब तक देखते रहे जब तक वो आपको साफ दिख रहा हो। इसके बाद फिर उसे धीरे-धीरे दूर ले जाएं। इसे 10 से 15 बार करें। ऐसा करने से आंखों को बहुत आराम मिलता है और आंखों को कमजोर होने से बचाया जा सकता है।

आंखें की सिकाई
ठंडे पानी से आंखों की सिकाई करने से आंखों की सूजन और तनाव दूर होता है। इसके लिए साफ कपड़े में बर्फ लपेटें और उसे बंद आंखों पर रखें। गुलाब जल तनावपूर्ण और थकी आंखों के लिए अच्छा है। इसके अलावा खीरे के टुकड़े आंखों पर रख सकते हैं।