जूस कब पीना चाहिए और बीमारी के हिसाब से कौन सा जूस फायदेमंद

0
835

जूस कब पीना चाहिए और बीमारी के हिसाब से कौन सा जूस फायदेमंद : दोस्तों क्या आप जानना चाहते हैं कि कौन सा जूस किस बीमारी में ज्यादा फायदा पहुँचता है हमें किस बीमारी में कौन सा जूस पीना चाहिए, तो यह पोस्ट जरूर पढ़िये।

पीलिया की बीमारी में :- पीलिया होने पर अंगूर, सेब, रसभरी, मोसम्बी, अंगूर न मिले तो लाल मुनक्का या किसमिश का पानी पीजिए गन्ने को चूस कर उसका रस पीजिए केला में 1.5 ग्राम चूना लगाए और फिर देर तक रखने के बाद इसे खाये।

वज़न बढ़ाने के लिए :- पालक, गाजर, चुकंदर, नारियल और गोभी का मिश्रण, दूध, दही, ड्राई फ्रूट, अंगूर और सेब का जूस।

बवासीर में :- मूली का रस, अदरक का रस घी डाल कर, नागर मोठा, नारियल पानी।

लो ब्लड प्रेशर में :- मीठे फलों का रस ले, लेकिन खट्टे फलों का इस्तेमाल न करे अंगूर और मौसंबी का जूस भी फायदेमंद होता है आप दूध भी पी सकते हैं।

कैंसर में :- वीट ग्रास जूस, गाजर और अंगूर का जूस।

फ्लू :- अदरक, तुलसी, गाजर का जूस।

सुन्दर बनने के लिए :- सुबह दोपहर नारियल का पानी या बबूल का रस ले नारियल के पानी से चेहरे को साफ़ करे।

डायबिटीज :- गोभी, गाजर, नारियल, करेला और पालक का जूस।

भूख लगने के लिए :- रोजाना सुबह खाली पेट नींबू पानी पीजिए खाना खाने से पहले अदरक को कद्दूकस करके सेंधा नमक मिलाकर खाए।

कोलाइटिस :- गाजर, पालक और पाइनएप्पल जूस, 70% गाजर के जूस के साथ दूसरे जूस का मिक्सचर चुकंदर, नारियल, ककड़ी, गोभी का रस का मिश्रण भी फायदेमंद होता है।

वज़न घटाने के लिए :- पाइनएप्पल, गोभी, तरबूज का जूस, निम्बू का रस।

ब्रोंकाइटिस :- पपीता, गाजर, अदरक, तुलसी, अनानास का जूस, मूंग का सूप, स्टार्च वाले फूड नहीं खाये।

हाई ब्लड प्रेशर :- गाजर, अंगूर, मोसम्बी, वीट ग्रास जूस फिजिकली और मेंटली रेस्ट लेना जरूरी है।

आँखों को तेज़ करने के लिए :- गाजर का रस और हरे धनिये का रस सबसे बेस्ट है।

पायरिया के लिए :- वीट ग्रास जूस, नारियल, ककड़ी, पालक और सोया के साग का रस, कच्चा ज्यादा खाये।

मुहासे के दाग :- गाजर, तरबूज़, प्याज़, तुलसी, एलो वेरा और पालक का जूस।

पीरियड्स के दर्द में :- अंगूर, अनानास और रसभरी का रस।

किडनी के दर्द के लिए :- गाजर, पालक, ककड़ी, अदरक और नारियल का पानी।

फोड़े–फुंसी के लिए :- गाजर, पालक, ककड़ी, गोभी और नारियल का जूस।

अनिद्रा के लिए :- अंगूर और सेब का जूस पीपरामूल शहद के साथ।

दमा :- लहसुन, अदरक, तुलसी, चुकंदर, गोभी, गाजर, भाजी का सूप या मूंग का सूप और बकरी का दूध फायदेमंद होते हैं घी, तेल, मक्खन आदि का सेवन कम करे।

पथरी में :- पत्तो वाली सब्ज़ी, पालक, टमाटर न खायें ककड़ी का जूस बेस्ट है सेब और गाजर का जूस और कद्दू का जूस भी फायदेमंद होता है जाऊ और सहजन का सूप फायदेमंद है।

जूस कब पीना चाहिए और बीमारी के हिसाब से कौन सा जूस फायदेमंद

खून साफ़ करने के लिए :- निम्बू, गाजर, गोभी, चुकंदर, पालक, सेब, तुलसी, नीम और बेल के पत्तों का जूस का इस्तेमाल करे।

सिरदर्द के लिए :- ककड़ी, चुकंदर, गोभी, गाजर और नारियल के रस का मिश्रण।

अल्सर :- अंगूर, गाजर, गोभी का जूस गर्म दूध में 2 चम्मच देसी गाय का घी डाल कर मिक्स करे और पीजिये।

खून बढ़ाने के लिए :- मोसम्बी, अंगूर, पालक, टमाटर, चुकंदर, सेब, रसभरी का जूस रात को पिये रात को भिगोया हुआ खजूर का पानी सुबह ले इलाइची के साथ केले भी फायदेमंद होगा।

एसिडिटी :- पालक, गाजर, ककड़ी, तुलसी का रस, फलों का रस ज्यादा ले अंगूर, मोसम्बी और दूध भी फायदेमंद है।

दांत निकलते बच्चों के लिए :- पाइनएप्पल जूस में थोड़ा सा नींबू डाल कर रोज 100 से 125 ग्राम जूस पिलाएं।

सर्दी–जुकाम :- मूली, अदरक, लहसुन, तुसली, गाजर का रस, मूंग या फिर भाजी का सूप।