जीएसटी के दायरे से बाहर होगी शराब, फिर भी बढ़ेंगे दाम

0
18
नई दिल्ली (ईएमएस)। केन्द्र सरकार ने शराब को एक जुलाई से लागू होने जा रहे वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे से बाहर रखा है। लेकिन इसके दाम बढ़ने की पूरी संभावना है। शराब उद्योग लागत बढ़ने को इसक प्रमुख कारण बता रहा है। जीएसटी लागू होने के बाद इसकी लागत में 12से 15 फीसदी की बढ़ोत्तरी होगी। इस कारण कंपनियों पर लाभ को लेकर दबाव होगा और कंपनियां उस दबाव को कम करने के लिए ग्राहकों का सहारा लेंगी। यह संघ देशभर की बियर कंपनियों का एक समूह है, जिसमें देश और विदेश की कई बड़ी बियर कंपनियों का प्रतिनिधित्व है।इसका सबसे ज्यादा असर बियर की लागत पर पड़ेगा। बियर की लागत करीब 15 प्रतिशत बढ़ेगी। शराब और इससे जुड़े उत्पाद की लागत 12 प्रतिशत बढ़ सकती है। कांच की बोतलों को 18 प्रतिशत कर के दायरे में रखा गया है, जबकि इससे पहले यह दायरा 15 प्रतिशत तक था। वहीं गुड़ को सबसे ज्यादा 28 प्रतिशत के टैक्स के दायरे में रखा गया है। यातायात कर 4.5 फीसदी से 5 प्रतिशत तक आ गया है। जबकि सेवा कर 15 से 18 प्रतिशत हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here