जानें, क्यों मैकरोनी और चीज़ खाना नुकसानदायक हो सकता है।

0
46

दशकों पहले बैन किए जा चुके केमिकल्स की मौजूदगी अभी भी बच्चों के खाने की कई चीजों में मौजूद है, जिसकी वजह से उन्हें भारी नुकसान हो सकता है। पावडर चीज़ से बनी चीजों जैसे मैकरोनी आदि में ये केमिकल्स ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं। फ्थैलेट नामक ये केमिकल्स टेस्टोस्टेरोन जैसे हार्मोन्स को प्रभावित कर सकते हैं, साथ ही साथ ये बच्चों में जन्मजात बीमारियों और सीखने की आदत में डिसऑर्डर बढ़ावा देते हैं।

30 चीज़ प्रॉडक्ट्स पर की गई स्टडी के मुताबिक, सभी में फ्थैलेट पाया गया लेकिन चीज़ पावडर से बनी वस्तुओं में यह कुछ ज्यादा ही मात्रा में पाया गया। ये सामान्य से लगभग चार गुना ज्यादा थी। ऑर्गैनिक लेबल के साथ बिकने वाली चीजों पर किए टेस्ट के बाद उनमें भी फ्थैलेट की मात्रा ज्यादा ही पाई गई है।

बता दें कि फ्थैलेट जानबूझकर किसी खाने के सामान में ऐड नहीं किया जाता है। पैकेजिंग के लिए इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक को हल्का करने के लिए इस केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही साथ पैकेट पर प्रिंटिंग के लिए इस्तेमाल होने वाली स्याही में भी फ्थैलेट ज्यादा मात्रा में पाया जाता है।

ये केमिकल्स पैकेजिंग से आते हैं और महिलाओं और बच्चों को प्रभावित करते हैं। कंज्यूमर प्रॉडक्ट सेफ्टी कमीशन की एक रिपोर्ट के निर्देशो के बावजूद फूड ऐंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने इन केमिकल्स को बैन नहीं किया है। इस रिपोर्ट के अनुसार खाने की चीजें, ड्रग और बेवरेज ही फ्थैलेट के मुख्य स्रोत हैं, खिलौने नहीं।

महत्त्वपूर्ण सुचना: यहाँ दी गई जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर
सम्भव प्रयास किया गया है। यहाँ उपलब्ध सभी लेख पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए है और इसकी
नैतिक जि़म्मेदारी www.braahmi.com  की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपनेचिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। आपका चिकित्सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्प नहीं है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here