गोमती रिवर फ्रंट घोटाले की होगी सीबीआई जांच 

0
7

बड़ी गड़बड़ियों का खुलासा  | लखनऊ । उत्तरप्रदेश की पूर्ववर्ती अखिलेश सरकार की महात्वाकांक्षी परियोजना गोमती रिवर फ्रंट में धांधली के खुलासे के बाद से राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है। रिवर फ्रंट की जांच के लिए बनी खन्ना समिति ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जांच रिपोर्ट सौंप दी है। सूत्रों के मुताबिक, मुख्यमंत्री योगी ने मामले की सीबीआई जांच को मंजूरी दे दी है।

हालांकि, आधिकारिक तौर पर इसका आदेश नहीं किया गया है। रिवर फ्रंट में अनियमितताओं की जांच के लिए नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने समिति गठित की थी। जांच कमेटी की रिपोर्ट सुरेश खन्ना ने दो दिन पहले सीएम योगी आदित्यनाथ को सौंप दी। रिपोर्ट में कई अनियमितताओं का जिक्र किया गया है। साथ ही परियोजना का बजट जरूरत से ज्यादा होने का दावा किया गया है। इसके अलावा जांच रिपोर्ट में कई बड़े अधिकारियों और प्रोजेक्ट इंजीनियर्स की भूमिका पर भी सवाल उठाए गए हैं।

कुछ समय पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने रिवर फ्रंट का दौरा किया था। जिसके बाद इसकी जांच के लिए हाई पावर कमेटी का गठन किया गया था। इस मामले में अधिकारियों और इंजीनियरों पर बेहिसाब खर्च के आरोप हैं। खन्ना समिति ने माना है कि न सिर्फ रिवर फ्रंट के बजट को जरूरत से ज्यादा बढ़ाया गया, बल्कि 65 फीसदी काम होने के बावजूद 90 फीसदी भुगतान किया जा चुका है। खन्ना कमेटी ने ठेका (निविदा) बांटने को लेकर भी मनमानी के आरोप लगाए हैं।

जांच रिपोर्ट में अधिकारियों और इंजीनियरों को सीधे-सीधे जिम्मेंदार ठहराया गया है। खबर है कि इस रिपोर्ट में दो प्रमुख सचिवों का भी नाम है। ऐसे में यदि मामले की सीबीआई जांच होती है तो कई और बड़े नाम सामने आ सकते हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here