खुश रहने के लिए इन खास बातों पर अमल करना है जरुरी

0
170

खुश रहने का कोई जादुई नुस्खा नहीं है जिसे अपनाकर आप सारे दुख दूर कर दे। खुशी वो चीज है जो कोई भी व्यक्ति अपने खुद की आदतों, काम और व्यवहार से पा सकता है। आपके के पास जो है उससे संतुष्ट रहकर हमेशा खुश रहना चाहिए।

हम सभी अपने जीवन में खुश रहना चाहते हैं और इसके लिए हम कई तरह के प्रयास करते हैं लेंकिन कई बार ऐसा होता है की हम ख़ुशी के लिए गलत दिशा का चुनाव करते हैं जिसके परिणामस्वरुप हमें निराशा और दुःख ही हाथ लगते हैं। इंटरनेट पर हजारों ऐसी किताबें हैं जो खुश होने के तरीके बताते हैं और इंटरनेट पर महज हाउ टू बी हैप्पी सर्च करने पर लाखों रिजल्ट आते हैं। खुश रहने के तरीको पर इतना लिखा जाने पर भी लोग खुशियों से दूर रहते हैं। आज हम आपको ऐसी चार बातों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे अपने जीवन में अमल करके आप खुश रह सकते हैं।

1.उन चीजों पर ध्यान दें जो आपके पास है न की उन चीजों पर जो आपके पास नहीं है:  ख़ुशी के लिए जो सबसे जरुरी चीज है वो है आभार की भावना का होना। अगर आप को जो भी मिला है उसके लिए आभार की भावना प्रकट करते हैं तो खुश रहते हैं। कई लोग ऐसे होते हैं जो उन चीजों से संतुष्ट नहीं होते जो उनके पास होती है। खुश रहने के लिए संतुष्टि की भावना का होना और इच्छाओं पर नियंत्रण होना बेहद जरुरी है।

2.दूसरे क्या कर रहे हैं इस पर ध्यान न देकर खुद के काम पर ध्यान देना: ऐसा कई बार देखा गया है कि लोग इस बात पर ज्यादा ध्यान देते है की दूसरे क्या कर रहे हैं और लोग अपनी तुलना दूसरे से करने लगते हैं। ऐसे में लोग कई बार खुद को दूसरे के मुकाबले कमतर आंकते हैं और दुखी रहते हैं। ऐसा करना सही नहीं है। दूसरे व्यक्ति की अच्छाइयों से प्रेरित होकर खुद में सकरात्मक बदलाव लाना सही है लेकिन दूसरो से खुद की तुलना करना व्यक्ति को खुशियों से दूर कर सकता है। खुश रहने के लिए ये बेहद जरुरी है की व्यक्ति रोजाना खुद को बेहतर बनाने के बारे में सोचे।

3.बाधाओं से लड़कर मौके की तलाश करें:  खुश रहने के लिए जो तीसरी सबसे बड़ी चीज है वो है बाधाओं पर विजय पाना। सबके जीवन में दिक्कतें और मुश्किलें आती हैं। किसी की जिंदगी भी हमेशा समान नहीं होती। जिंदगी में उतार चढ़ाव आते रहते हैं। ऐसी स्थिति मे आदमी को घबराने की जगह कठिनाइयों का सामना करना चाहिए और नए मौकों की तलाश में रहना चाहिए। ऐसे कई लोग हैं जो अपनी दिक्कतों और परेशानियों का रोना रोते हैं लेकिन इन्हें दूर करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाते।

4.उन्ही चीजों के बारे में सोचें जो जरुरी है, गैर जरुरी चीजों को दिमाग से निकाल दें: ऐसी कई सारी चीजें होती है जो व्यक्ति के लिए ज्यादा महत्त्व नहीं रखती लेकिन व्यक्ति फिर भी ऐसी चीजों के बारे में सोचता है और अपनी मानसिक ऊर्जा नष्ट करता है। हमें ये पता होता है कि हमारे लिए क्या जरुरी है लेकिन हम इस बात पर ध्यान नहीं दे पाते। उन चीजों पर ध्यान देना जो हमारे लिए बेहद जरुरी है, ऐसा करना हमें अन्दर से मजबूत करता है। जब कभी आपको जीवन में दुःख का अनुभव हो आप उन चीजों के बारे में सोचें जो आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण हो।

महत्त्वपूर्ण सुचना: यहाँ दी गई जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर
सम्भव प्रयास किया गया है। यहाँ उपलब्ध सभी लेख पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए है और इसकी
नैतिक जि़म्मेदारीwww.braahmi.com की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपनेचिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। आपका चिकित्सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्प नहीं है।