खाली पेट तुलसी कोे दूध में मिला कर पीने के लाभ

0
68

भारतीय संस्कृति में तुलसी के पौधे का बहुत महत्व है और इस पौधे को बहुत पवित्र माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि जिस घर में तुलसी का पौधा नहीं होता उस घर में भगवान भी रहना पसंद नहीं करते। माना जाता है कि घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगा कलह और दरिद्रता दूर करता है।

तुलसी एक ऐसी हर्ब है जो कई समस्याओं का आसानी से दूर कर सकती है। अगर तुलसी को दूध के साथ मिला लें तो ये कई बीमारियों के लिए रामबाण साबित होगी. आज हम आपको बता रहे हैं कैसे तुलसी की तीन से चार पत्तियां उबलते हुए दूध में डालकर खाली पेट पीने से आप सेहतमंद रह सकते हैं।

1. सांस सम्‍बंधी रोगों में फायदेमंद
अगर किसी व्‍यक्ति को दमा या अन्‍य कोई सांस सम्‍बंधी रोग है तो वह तुलसी और दूध का सेवन प्रतिदिन सुबह करें। इससे उसकी बीमारी कुछ ही दिनों में सही होना शुरू हो जाएगी।

2. सिरदर्द में उपयोगी
अगर‍ किसी को हर कुछ दिन पर सिर में दर्द होने लगता है तो उसे तुलसी और दूध को फेंटकर हर सुबह पी लेना चाहिए। इससे उस व्‍यक्ति को आराम मिलेगा और जल्‍द ही माईग्रेन जैसी बीमारी भी दूर हो जाएगी।

3. फ्लू को ठीक करे
अगर आपको फ्लू हो गया हो, तो यह पेय आपको लाभ देता है और जल्‍द ठीक होने की शक्ति प्रदान करता है।

4. ह्दय को स्वस्थ रखे
जिन लोगों को ह्दय रोग हो चुका हो या उनके परिवार में किसी को पहले हुआ हो और उन्‍हें होने की संभावना हो, तो ऐसे लोगों को रोज सुबह खाली पेट दूध और तुलसी का सेवन करना चाहिए। इससे ह्दय स्‍वास्‍थ्‍य अच्‍छा हो जाता है।

5. तनाव घटाए
इस पेय को पीने से मन अच्‍छा हो जाता है और नर्वस सिस्‍टम भी रिलैक्‍स हो जाता है जिससे व्‍यक्ति का तनाव अपने आप कम हो जाता है। अगर कोई डिप्रेशन या चिंता से ग्रस्‍त है तो उसे तुलसी और दूध का सेवन अवश्‍य करना चाहिए।

6. किडनी स्‍टोन
अगर किसी व्‍यक्ति को किडनी में स्‍टोन होने की शुरूआत हुई है तो उसे दूध और तुलसी का सेवन करना चाहिए, इससे किडनी का स्‍टोन धीरे-धीेरे गलने लगता है।

7. कैंसर से बचाए
तुलसी में कई एंटीबायोटिक गुण होते हैं साथ ही इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट भी होते हैं और दूध में सारे अन्‍य पोषक तत्‍व होते हैं जिसकी वजह से कैंसर जैसी घातक बीमारी, शरीर के कमजोर न होने की स्थिति में पनप नहीं पाती है।

महत्त्वपूर्ण सुचना: यहाँ दी गई जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हरसम्भव प्रयास किया गया है। यहाँ उपलब्ध सभी लेख पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए है और इसकीनैतिक जि़म्मेदारी www.braahmi.com  की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपनेचिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। आपका चिकित्सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्प नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here