खाद्य पदार्थ जो प्राकृतिक रुप से इंफेक्शन से लड़ने में करते हैं मदद

0
46

हमारा शरीर बहुत जल्दी इंफेक्शन से ग्रसित हो जाती है। ऐसा इम्यूनिटी बूस्ट ना होने की वजह से होता है। कुछ फूड का सेवन करके प्राकृतिक रुप से इम्यूनिटी को बूस्ट किया जा सकता है जो इंफेक्शन से लड़ने में मदद करते हैं।

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अपनी डाइट का ध्यान रखना बेहद जरुरी होता है। ,सही डाइट की मदद से शरीर और दिमाग दोनों स्वस्थ रहते हैं। हमारा शरीर बैक्टीरिया, कीटाणु और वायरस से लड़ने के लिए कठिन परिश्रम करता है। जब भी आपका शरीर किसी भी बीमारी जैसे फ्लू, स्किन इंफेक्शन या पेट दर्द से ग्रसित होता है तो उसका असर इम्यूनिटी पर पड़ता है। इम्यूनिटी पर असर पड़ने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होने की संभावना बढ़ जाती है। लेकिन सही भोजन का चुनाव करके शरीर को प्राकृतिक रुप से बैक्टीरिया से लड़ने में मदद मिल सकती है। आपके घर में ऐसे कई फूड होते हैं जो आपको इंफेक्शन से लड़ने में मदद करते हैं। तो आइए आपको इन खाद्य पदार्थों के बारे मे बताते हैं।

पेट दर्द के लिए अदरक: पेट का फ्लू बहुत पीड़ादायक होता है। पेट के फ्लू की वजह से डायरिया, जी मिचलाना, सिर दर्द शरीर में दर्द पेट मे खिंचाव, बुखार जैसे लक्षण दिखने लगते हैं। अदरक में मौजूद एंटी इंफ्लेमेट्री गुण पेट में सूजन को कम करने में मदद करता है। इसके साथ ही अदरक एंटीवायरल होता है जो फ्लू के वायरस से लड़ने में मदद करता है।

गले की खराश के लिए नींबू: गले की खराश बहुत सामान्य और दर्दनाक होती है। वायरल, बैक्टीरिया और फंगल इंफेक्शन की वजह से गले में खराश होती है। इस समस्या के लिए नींबू बहुत फायदेमंद होता है। नींबू में कुमारिन और टेट्राजीन होता है जो कीटाणुओं से लड़ने में मदद करता है। नींबू में मौजूद विटामिन सी एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। जो फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करते हैं।

साइनस इंफेक्शन के लिए लाल मिर्च: साइनस में वायरस की वजह से सूजन की वजह से साइनस इंफेक्शन होता है। इस तरह के इंफेक्शन ज्यादातर सर्दियों में होते हैं जिसकी वजह से बलगम आने लगती है।साइनस इंफ्केशन के लिए लाल मिर्च काफी प्रभावी होती है। यह साइनस को खोलने में मदद करता है। यह इम्यूनिटी बूस्ट करने, ब्लड सर्कुलेशन में सुधार के साथ सूजन कम करने में मदद करती है।

कान के इंफेक्शन के लिए प्याज का जूस: मिडिल इयर में बैक्टीरिया की वजह से कान में दर्द होता है। कान में दर्द की वजह से बुखार, सिरदर्द और नींद की समस्या होने लगती है। घर पर ही कान में इंफेक्शन का इलाज किया जा सकता है। प्याज के जूस में एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो कान के दर्द को दूर करने में मदद करते हैं।

अपर रेसपाइरेट्री इंफेक्शन के लिए शहद: अपर रेसपाइरेट्री इंफेक्शन नाक, गले, साइनस में इंफेक्शन होने से होती है।अपर रेसपाइरेट्री इंफेक्शन एक वायरल है जो एक इंसान से दूसरे में बहुत जल्दी फैलता है। कभी-कभी यह बैक्टीरिया की वजह से भी होता है। अपर रेसपाइरेट्री इंफेक्शन के लिए शहद बहुत फायदेमंद होता है। शहद में उच्च मात्रा में पोषक तत्व औक एंजाइम होते हैं जो वायरस से लड़ने में मदद करते हैं।