कुमार विश्वास ने संदीप की तुलना राहुल से की, बोले, मुझे शीला से सहानुभूति

0
20

नई दिल्ली । सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत पर कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित के बयान पर बवाल जारी है। एक ओर जहां आम आदमी पार्टी के नेताओं ने इसे मूर्खतापूर्ण बताया है वहीं, पार्टी के फायर ब्रांड नेता कुमार विश्वास ने संदीप दीक्षित को वंशवादी राजनीति का एक खराब उत्पाद बता दिया। आप नेता कुमार विश्नास ने कहा कि उनकी मां (दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित) से उसी तरह की सहानुभूति है, जैसी सोनिया गांधी से है। कुमार ने कहा कि भारत के सेनाध्यक्ष पर ओछी टिप्पणी कर उन्होंने अपनी असलियत उजागर कर दी है। आम आदमी पार्टी नेता कुमार विश्वास ने अपने वसुंधरा स्थित निवास पर यह बातें कहीं। उन्होंने भाजपा पर भी भगवान राम के बाद अब सेना के जवानों पर गंदी राजनीति करने का आरोप लगाया। इससे पहले आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष ने इस मसले पर संदीप दीक्षित पर जमकर हमला बोला, इसके बाद कुमार विश्वास ने संदीप की जमकर क्लास ली।  आशुतोष ने कहा कि संदीप दीक्षित ने किसान आंदोलन से लोगों का ध्यान हटाने के लिए यह बयान दिया है। कुमार विश्वास ने कहा कि एक तरफ यह भी सच है कि भाजपा ने सेना के शौर्य, पराक्रम और बलिदान का फायदा अपने राजनैतिक प्रचार के लिए उठाया है। उनके नेताओं ने समय-समय पर ऐसे बयान दिए हैं जैसे हमारे जांबाज़ों ने नहीं, स्वयं भाजपा नेताओं ने ही यह पराक्रम किया है। सर्जिकल स्ट्राइक पर पूरे भारत को गर्व था, लेकिन इन लोगों ने ऐसे पोस्टर लगाए, जैसे राइफल लेकर यही लोग गए हुए थे। गोवा में ऐसे पोस्टर लगे थे जैसे मनोहर पार्रिकर साहब ही गए थे। सेना के बारे में कुछ बोलना घृणित है और सेना के मनोबल तोड़ने का कार्य है। उन्हें सलाह है कि देश के जवानों की शान में गुस्ताख़ी न करें। संदीप जी जैसे प्रलापी नेताओं को इस बात का आभास होना चाहिए कि यदि वे राजधानी में खड़े हो कर इस तरह का गैर-जिम्मेदाराना प्रलाप कर पा रहे हैं, तो इसी वजह से कर पा रहे हैं कि जैसलमेर की ५० डिग्री की गर्मी और कारगिल में माइनस ४० डिग्री की ठंड में भी देश के कुछ बेटे सीना ताने आपकी रक्षा में खड़े हैं। कुमार विश्वास ने भाजपा को लेकर कहा कि उन्हें एक नेक सलाह है कि राम और राष्ट्रवाद के बाद अब सेना के शौर्य का दुरुपयोग न करें और देश के अन्य मुद्दों, किसान, भूख, बेरोज़गारी इत्यादि पर ध्यान दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here