ऑलिव ऑइल का महत्व, जैतून के तेल के फायदे

0
359

विटामिन ई की भरपूर मात्रा में युक्त ओलिव ऑइल या जैतून का तेल खाने के तेल के रूप में पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाता है. इसकी पैदावार मुख्य रूप से भूमध्यवर्ती देशों जैसे ग्रीस, स्पेन और इटली आदि में होती है जहाँ प्रचुर गर्मी पड़ती है ऐसे में अपनी सेहत को बेहतर रखने के लिए जैतून का तेल बहुत महत्व रखता है क्योंकि इसमें सेहत से जुड़े लाभ की पर्याप्त मात्रा है.

जैतून का तेल बालो के लिए  खूबसूरती बढाने का एक खास उत्पाद माना जाता है, इसके फायदे यहीं ख़त्म नहीं होते बल्कि ग्लोइंग स्किन, और सुगठित काया पाने की चाह रखने वालों के लिए भी ओलिव ऑइल एक वरदान है. भोजन पकाने के तेल के रूप में इस्तेमाल कर या शरीर की उपरी देखभाल के लिए किया गया इसका प्रयोग बेहद अद्भुत परिणाम देने वाला है.

ओलिव ऑइल का प्रयोग घरेलू उपचार, त्वचा की देखभाल आदि के रूप में किया जाता है. जैतून के फलों का ख़ास मशीनों में दबाव द्वारा तेल निकाला जाता है. पहली प्रेस में वर्जिन ओलिव ऑइल प्राप्त होता है जिसका प्रयोग खाने के तेल के रूप में किया जाता है, शुद्ध होने और भरपूर मात्रा में पोषक तत्वों की उपस्थिति की वजह से ही यह वर्जिन ओलिव ऑइल  खाने योग्य होता है,

इसके पश्चात दुसरे प्रेस में इसके पोषक तत्व और गुणवत्ता निश्चित रूप से उच्च ताप और दबाव आदि के कारण कम हो जाती है इस तेल का प्रयोग हम बाह्य प्रयोग के रूप में करते हैं क्योंकि इसका फ्लेवर और ज़रूरी पोषक तत्व अपेक्षाकृत कम हो जाते हैं. जैतून का तेल के फायदे

ह्रदय के लिए ओलिव ऑइल  दिल के लिए ओलिव ऑइल को बेहतरीन माना गया है. इसमें किसी तरह का बुरा फैट नहीं होता जो कोलेस्ट्रोल को बढ़ने में मदद करता हो. अक्सर भूमध्यवर्ती देशों में खाने में जैतून के तेल का ही अधिक इस्तेमाल किया जाता है. ह्रदय रोग और हार्ट स्ट्रोक आदि कि सम्भावना को कम करने में जैतून के तेल का खास योगदान है. यह स्ट्रोक आदि के खतरे को कम करने में सहायक है. एक शोध में यह परिणाम सामने आये हैं कि यदि कोई नियमित रूप से जैतून के तेल का प्रयोग खाने में करता है तो उनके शरीर में रक्त के थक्के कम बनते हैं.

ब्लड प्रेशर से बचने में सहायक ऐसे लोग जो ओलिव ऑइल में रोज का खाना पकाते हैं उनके लिए यह उसी तरह काम करता है जैसे ब्लड प्रेशर के मरीज के लिए दवा. ब्लड प्रेशर की समस्या से बचने के लिए आप नियमित रूप से खाना पकाने में जैतून तेल का प्रयोग कर सकते हैं. पोलिफेनल नामक रसायन जैतून के तेल में उपस्थित होता है जो हमारे शरीर की धमनियों को सहारा देते हुए ब्लड प्रेशर को सामान्य रखने का काम करता है.

कोलेस्ट्रोल को दूर करने में जैतून का तेल  ओलिव ऑइल का सम्बन्ध फैट के स्तर से भी होता है. जो लोग जैतून के तेल का सेवन करते हैं उनके शरीर का वजन नहीं बढ़ता, अतः यह मोटापे को भी रोकता है. आगरा आपको कोलेस्ट्रोल की समस्या है तो निश्चित रूप से आपको खाना पकाने के लिए जैतून के तेल का चुनाव करना चाहिए.

कैंसर के खतरे को कम करने का उपाय है ओलिव ऑइल  यह एक आँखों देखा सत्य है जो हमारी जीवन शैली पर आधारित है. अगर हम उचित खानपान करते हैं और सेहतमंद भोजन लेते हैं तो निश्चित रूप से हम स्वस्थ बने रहते हैं. मगर आज के समय का खानपान हमारी सेहत को बहुत ज्यादा प्रभावित कर रहा है. इसकी वजह से कैंसर जैसी जानलेवा बिमारी आज आम बात हो गई है. एक रिसर्च के मुताबिक़ ओलिव ऑइल में कोलोन कैंसर से बचाव के खास गुण मौजूद होते हैं और ब्रेस्ट कैंसर जैसी भयावह रोग में भी जैतून का तेल बहुत फायदेमंद माना जाता है.

अर्थराइटिस से सुरक्षा के लिए, जैतून तेल  एक ग्रीक रिसर्च के अनुसार यह खुलासा किया गया है कि ओलिव ऑइल का प्रयोग खाने में करने से अर्थराइटिस का खतरा नहीं होता. जो लोग नियमित रूप से भोजन में जैतून तेल का प्रयोग करते हैं उन्हें इस समस्या से दूर रहने में मदद मिलती है.

महत्त्वपूर्ण सुचना: यहाँ दी गई जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हरसम्भव प्रयास किया गया है। यहाँ उपलब्ध सभी लेख पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए है और इसकीनैतिक जि़म्मेदारी www.braahmi.com  की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपनेचिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। आपका चिकित्सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्प नहीं है।