ऑफिस में प्रोडक्टिविटी बढ़ाना है तो रोज करे इन आसनों का अभ्यास

0
758

ऑफिस में दिनभर काम करने से अक्सर हमें तनाव, थकान और चिड़चिड़ाहट होने लगती है| साथ ही रोज रोज ऐसा होने से कई तरह की स्वास्थ्य संबधी समस्याए जैसे कॉलेस्ट्रॉल, मोटापा, पेट का ख़राब होना, डायबिटीज, बॉडी पैन, यूरिक एसिड की समस्या शरीर को घेर लेती है|

लोग अक्सर ट्रेन, बस और ऑटो का सफर तय करके घंटों तक ऑफिस में एक जगह पर बैठकर कंप्यूटर पर काम करते हैं| इसके वजह से बिलकुल भी फिजिकल वर्कआउट नहीं हो पाता और तो और दिन भर काम करने के बाद फिर घर जाकर भी व्यायाम करने के लिए बिलकुल भी ताकत नहीं बचती है|

इस तरह रोज रोज तनाव लेने और बिलकुल भी वर्कआउट ना करने से धीरे धीरे आपके काम करने की क्षमता प्रभावित होने लगती है| यदि आप चाहते है की ऐसा ना हो तो अपनी दिनचर्या में आप योग को शामिल करे|

योग आपके दिमाग और शरीर को नियंत्रण में रखकर इसे स्वथ्य रखता है| योग में कई तरह के आसन होते हैं, जिसे आप अपने समय के हिसाब से चुन सकते है| आइये जानते है योगा पोसेस के बारे जिसे आप अपनी डेली लाइफ में शामिल कर अपनी प्रोडक्टिविटी को बढ़ा सकते है|

भ्रामरी प्राणायाम:

भ्रामरी प्राणायाम के नियमित अभ्यास से क्रोध, चिंता, तनाव जैसे विकारो को दूर किया जा सकता है।
इसे करने से आप पूरा दिन काम करने के बाद भी रिलेक्स फील करते है|
इससे सकारात्मक सोच में बृद्धि होती है। जिससे आप ऑफिस में अच्छे से काम कर सकते है|
इसको करने से स्मरण शक्ति बढ़ती है। जिससे आप चीजों को आसानी से याद कर सकते है, जो आपको ऑफिस कार्यो के लिए काफी मददगार साबित होगा।
इस प्राणायाम से सिरदर्द जैसी समस्या भी दूर हो जाती है जो आपको काम में मन लगा रहने के लिए अच्छा रहता है।

पर्वतासन:

पर्वतासन को नियमित करने से ऑक्सीजन की सप्लाय नियमित रूप से होती है। जिससे आपका दिमाग एक्टिव बना रहता है|
पर्वतासन को रोज करने से आपकी एकाग्रता बढ़ती है|
यह आसन रक्त को साफ़ करने में सहायक होता है जिससे हमारे फेफड़े स्वस्थ रहते है।
इसके नियमित अभ्यास से कमर में दर्द और जकड़न जैसी समस्या दूर हो जाती है। जिससे आपको लगातार एक जगह बैठे रहने से होने वाली समस्या का निवारण हो जाता है।
यह आसन पैरों और घुटने में होने वाली परेशानियों को भी दूर करता है जिससे आपको यात्रा में परेशानी नहीं होती और आप प्रतिदिन ट्रेवल कर पाते है।

प्राण मुद्रा:

प्राण मुद्रा करने से दिनभर की थकान और स्ट्रेस कम होता है।
प्राण मुद्रा को नियमित करने से शरीर में ताकत आती है जिससे व्यक्ति तेजस्वी बना रहता है।
प्राण मुद्रा को नियमित करने से अनिद्रा जैसी समस्या का निदान होता है जिससे आपको ऑफिस में नींद आने की समस्या नहीं होती है।
प्राण मुद्रा करने से पेट सम्बन्धी समस्या जैसे कब्ज,पेट में जलन और एसिडिटी दूर हो जाती है।
प्राण मुद्रा आँखों की ज्योति के लिए लाभकारी इलाज है। आँखों की दृष्टि और आँखों से सम्बंधित बीमारी जैसे आँखों का जलना इसमें यह राहत दिलाता है|

अधोमुख शवासन:

अधोमुख शवासन करने से आपका दिमाग पूरी तरह से रिलेक्स हो जाता है। और आप ऑफिस में कंसन्ट्रेशन के साथ काम कर सकते है|
अधोमुख शवासन को नियमित करने से शरीर को लचीलापन बढ़ता है जिससे बदन में दर्द नहीं होता है।
अधोमुख शवासन के अभ्यास से रीढ़ की हड्डी को आराम मिलता है और पीठ के दर्द से राहत मिलती है। जिससे आपको ऑफिस में बैठे रहने में मदद मिलती है|
अधोमुख शवासन एक ऐसा आसन है जिससे आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती है। जिससे आप ऑफिस में मिले काम को आत्मविश्वास के साथ पूरा कर पाएंगे।

बंद कोणासन:

बंद कोणासन को रोज करने से नर्वसनेस को कम करने में मदद मिलती है। जिससे एकाग्रता में बढ़ोतरी होती है।
बंधकोणासन के नियमित अभ्यास से घुटने के हिस्सों में रक्त संचारित होता है।
पैरों के अलावा यह पेट, कमर, पीठ के निचले हिस्से तथा गुर्दे और मूत्राशय को भी ठीक रखता है।