इन 5 तरीकों से बढ़ाएं एकाग्रता

0
143

भागदौड़ भरी जिंदगी में बिना शांति के कोई आराम नहीं मिल पाता है। हर रोज काम करने और बेहतर काम करने के लिए जरूरी है कि एकाग्रता से काम किया जाए। हम आपको 5 ऐसे तरीके बता रहे हैं, जिससे आप मन को शांति दे सकें और एकाग्रता शक्ति बढ़ा सकें।

1 प्रार्थना आसन किसी भी दिन योगासन शुरू करने से पहले इस आसन को करना लाभदायक होता है। इसके लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं और संतुलन अवस्था में दोनों पैरों पर समान भार हो। हाथ जोड़कर नमस्ते मुद्रा में खड़े हों। कंधे एकदम आराम मुद्रा में हों फिर गहरी सांस लेते हुए इसे महसूस करें।

2 वीरभद्रासन इस आसन से एकाग्रता और ध्यान को एक साथ एक जगह लगाने में मदद मिलती है। इसके लिए दोनों पैरों के बीच 3-4 फीट का अंतर रखते हुए खड़े हो जाएं। दोनों हाथों को जमीन के समानांतर रखते हुए हथेली को जमीन की तरफ रखें। अब दाहिने पैर को झुकाएं और सिर दाहिनी ओर करते हुए हाथ की मध्यमा उंगली को ध्यान से देखें।

3 पश्चिमोंत्तनासन इसमें मन और शरीर दोनों को शान्त करते हुए एकाग्रता को बढ़ाया जा सकता है। इसके लिए सबसे पहले पैर को सामने की तरफ फैलाते हुए बैठ जाएं। सांस खींचते हुए दोनों हथेलियों को पैर की तरफ ले जाएं और पैर की उंगलियों को स्पर्श कराएं फिर सांस छोड़ते हुए वापस आएं।

4 बकासन हाथों के संतुलन से एकाग्रता को बढ़ाने के लिए इस आसन को किया जाता है। इसके लिए पहले उकड़ू बैठ जाएं फिर दोनों हथेलियों को आगे रखते हुए, उस पर सारा जोर डालते हुए एक-एक करके पैर को मोड़ कर इस तरह ऊपर उठाएं कि सिर नीचे रहे और पैर भी उसी की सीध में रहे।

5 नाड़ी शोद्धन प्राणायाम प्रतिदिन 5 मिनट नाड़ी शोद्धन प्राणायाम करने से शांति मिलती है और मन एकाग्रचित्त होता है। इसके अलावा श्वास संबंधी दिक्कतें भी दूर होती हैं। इसके लिए ध्यान मुद्रा में बैठ जाएं और दाहिने हाथ के अंगूठे से नाक के दाहिने छिद्र को बंद करें, बाएं छिद्र से सांस लें फिर एक उंगली से बायां छिद्र बंद करें और अंगूठे को हटाते हुए सांस छोड़ें। यही प्रकिया दोहराते रहें।