अलसी के फायदे 

0
893

सच कहें तो अलसी  गुणों की खान है, लेकिन ये बात और है कि लोग इस बात से अनजान हैं। शाकाहारी लोगों के लिए यह ओमेगा-3 फैटी एसिड का बहुत अच्छा स्त्रोत है। इसमें लगभग 50% ओमेगा-3 फैटी एसिड, अल्फा लिनोलिक एसिड के रूप में होता है। हमारे शरीर के अंदर नहीं बनता, इसे भोजन के माध्यम से ही लेना पड़ता है। यदि आप नियमित रूप से इसका सेवन करते हैं तो आपको इसके सकारत्मक प्रभाव प्राप्त होंगे। अलसी में ओमेगा-3 के साथ-साथ फाइबर, प्रोटीन, विटामिन B कॉम्प्लेक्स, मैंगनीज, मैग्नीशियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस और सेलेनियम और फाइटोएस्ट्रोजन भी पाए जाते हैं। यदि आप खुद को रोगों से दूर और तंदरुस्त रखना चाहते हैं, तो कम से कम दो चम्मच अलसी को अपने भोजन में जरुर शामिल कर लें।

अलसी के फायदे 

वजन पर काबू करे  यह लिग्निन और ओमेगा-3 चर्बी को जमा होने से रोकते हैं और शरीर को चुस्त बनाते हैं। यदि आपका काम ऐसा है कि आप उठकर एक्सरसाइज तक के लिए समय नहीं निकाल पाते, तो ऐसे में आपको अलसी का सेवन करना अपने रूटीन में शामिल कर लेना चाहिए। इससे आपको अपने वजन को नियंत्रित करने में काफी मदद मिलेगी। खाना खाने लगभग 1 घंटे पहले 1 से 11/2 tsp अलसी अच्छी तरह चबा चबा कर खायें और ऊपर से एक गिलास पानी पी लें, आधे घंटे बाद फिर एक गिलास पानी पियें। इससे आपको अपना पेट एकदम भरा हुआ महसूस होगा और आप खाना कम खाएंगे।

पाचन सुधारे   अगर आप अक्सर कब्ज़ से परेशान रहते हों और हाज़मा खराब रहता हो तो ऊपर दी गई विधि से अलसी का सेवन आपके पाचन को सुधारने में बहुत मददगार होगा। लेकिन याद रखें की पानी अधिक मात्रा में पीना न भूलें।

दमा रोग में असरदार   अलसी में दमा रोग पर असर दिखाने के गुण मौजूद हैं। यदि आप दमा से पीड़ित हैं तो इसके लिए अलसी के बीज को पीस कर पानी में मिला दें और 10 घंटों के लिए छोड़ दें। इस पानी को नियमित रूप से दिन में तीन बार लेने से दमा कम हो जाता है। इसके साथ ही इस पानी से आपको खांसी में भी राहत मिलेगी।

महिलाओं में हॉर्मोन मैनेज करे   इसमें पाये जाने वाले फाइटोएस्ट्रोजन के कारण यह महिलाओं के लिए खासतौर पर फायदेमंद है। महिलाओं में रजोनिवृत्ति के समय होने वाले हार्मोनल चेंज और उसके कारण होने वाली समस्यायें जैसे अत्यधिक गर्मी , बेचैनी, अनियमित रक्तस्त्राव , कमर दर्द, योनि का शुष्क होना, और जोड़ों में दर्द में यह बहुत अधिक फायदा पहुंचाती है।

त्वचा और बालों को स्वस्थ, सुन्दर और चमकदार बनायें  अगर आप चाहते हैं की आपके बाल त्वचा स्वस्थ, चिकनी और चमकदार रहे तो, रोज़ 1 से 2 चम्मच अलसी अपने रूटीन में शामिल करें। इसमें पाये जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण त्वचा में कोलेजन प्रोडक्शन और नई सेल्स के बनने को बढ़ावा देते हैं जिससे त्वचा पर उम्र के साथ होने वाले बदलाव कम दिखाई देते हैं।

हाई कोलेस्ट्रोल लेवल कम करे   अलसी में मौजूद फाइबर चर्बी और कोलेस्ट्रोल को शरीर के द्वारा अवशोषित होने से रोकते हैं जिससे यह शरीर में कोलेस्ट्रोल लेवल को कम करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही अलसी के बीज हाई ब्लडप्रेशर में भी फायदा पहुंचाते हैं।

डायबिटीज पर असरदार   अलसी के बीज में सेल्यूलोस का ही एक रूप, लिग्निन भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो ब्लड शुगर को कम करने में काफी सहायक है। तो यदि आपको डायबिटीज है, तो किसी भी तरह से अलसी की 25 ग्राम मात्रा को अपनी डाइट में शामिल कर लें। आप चाहें तो इस मात्रा को कुछ भागों में बाँट सकते हैं। और फिर दिनभर में किसी भी तरह से इसका सेवन कर सकते हैं।

कैंसर की रोकथाम में उपयोगी  शरीर में मौजूद टोक्सिंस  और गंदगी के कारण कैंसर होने का खतरा बना रहता है। फिर से यहाँ लिग्निन शरीर में मौजूद टोक्सिंस, गंदगी और कोलेस्ट्रोल को एक साथ कर के मल के साथ बाहर निकाल देता है और आपको कैंसर से बचाकर रखने में मददगार साबित हुए। इसके सेवन से प्रोस्टेट कैंसर, कोलोन कैंसर और ब्रैस्ट कैंसर से बचा जा सकता है।

जोड़ों के दर्द से राहत दिलाये   अलसी जोड़ों की हर तकलीफ पर असरदार है। इसे खाने से खून पतला हो जाता है, जिसकी वजह से पैरों में रक्त का प्रवाह सही ढंग से होता है और दर्द जैसी समस्याएँ दूर हो जाती हैं। जोड़ों के दर्द के लिए अलसी के पाउडर को सरसों के तेल के साथ गर्म करें और ठंडा होने के बाद जोड़ों पर लगा लें, आराम मिलेगा।

आइये अब संक्षेप में अलसी के अन्य फायदों के बारे में जानते हैं:
अलसी में मौजूद फाइबर पेट को साफ रखने में सहायक होते हैं।
शरीर को ऊर्जा और स्फूर्ति प्रदान करती है।
अलसी के बीज के तेल से चेहरा चमकदार हो जाता है।
जलने पर अलसी के तेल का इस्तेमाल करने से तुरंत आराम मिलता है।
अलसी के सेवन से मासिक धर्म के समय होने वाली समस्याओं से राहत मिलती है।
कफ की समस्या से निजात दिलाती है।

ध्यान रखें 
अगर आप पहले से कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाली डायबिटीज कंट्रोल करने वाली  या रक्त को पतला करने वाली मेडिसिन ले रहे हैं तो अलसी का प्रयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। इसकी उचित मात्रा का सेवन करें। इसकी अधिकता भी नुकसान पहुंचा सकती है। साथ ही अगर आपको पाइल्स की समस्या है तो इसका प्रयोग न करें। इसके सेवन के बाद ज्यादा से ज्यादा पानी पियें। अलसी में अधिक मात्रा में फाइबर पाए जाते हैं, जो पानी की कमी होने पर पेट में गैस, एसिडिटी जैसी समस्याओं को जन्म देते हैं।