अब शाही सफर का लुत्फ उठाएंगे हमसफर ट्रेन के यात्री

0
6

नई दिल्ली। रेल सफर को सुहाना बनाने के लिए रेलवे ने एसी-3 डिब्बों में कई दिलचस्प बदलाव किए हैं। रायबरेली में मॉडर्न कोच फैक्ट्री में नए कोच बनाने का काम जोरों पर चल रहा है। श्रीगंगानगर से तिरुचिरापल्ली के बीच चलने वाली हमसफर ट्रेन के लिए ऐसे 22 डिब्बे बनाए जा चुके हैं। इन डिब्बों के टॉयलेट में यूरिनल फिट किया गया है। अधिकारियों को उम्मीद है इससे कोच के शौचालयों को साफ-सुथरा रखने में मदद मिलेगी। नए टॉयलेट का डिजाइन नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन ने तैयार किया है।

यही नहीं, रेलगाड़ी के शौचालय में बच्चों की नैपी बदलने के लिए भी खास टेबल लगाई गई है। शौचालय का फ्लोर ऐसा है जिसमें पानी जमा नहीं होगा। शौचालय का रंग-रोगन ऐसा है कि इसकी दीवारों पर खुरचकर कुछ भी लिखना मुमकिन नहीं होगा। इतना ही नहीं, शौचालयों में फायर सेंसर लगने से लोग इनमें चोरी-छिपे धूम्रपान भी नहीं कर पाएंगे।
नए डिब्बों की साइड लोअर बर्थ को भी ज्यादा आराम के लिए डिजाइन किया गया है। इसके लिए बर्थ में ऊपर से गद्दा दिया गया है। इस गद्दे को खींचकर सीट के ऊपर रखने से लेटने में आसानी होगी। नए कोच सुरक्षा के लिहाज से भी बेहतर होंगे। हर डिब्बे में जर्मनी से मंगवाए गए 6 सीसीटीवी कैमरे होंगे। खास बात यह है कि इनकी फुटेज को रियल टाइम में देखना मुमकिन है। आग से जुड़ी दुर्घटनाओं से बचने के लिए कोच में खास सेंसर होंगे। साथ ही पैसेंजर अनाउंसमेंट सिस्टम के जरिये यात्रियों को वक्त पड़ने पर निर्देश दिए जा सकेंगे।

हमसफर एक्सप्रेस में लगने जा रहे नए डिब्बों की कलर स्कीम को भी सुधारा गया है। बताया जा रहा है कि इसके लिए भूरे और स्लेटी रंग का इस्तेमाल किया जाएगा ताकि डिब्बों में धूल और मिट्टी का असर कम दिखे।फायर-प्रूफ और कूलिंग इफेक्ट देने वाले पर्दे भी डिब्बों की शोभा बढ़ाएंगे। नए डिब्बों में यूएसबी प्वाइंट्स की संख्या बढ़ाई गई है जिससे मुसाफिरों को लैपटॉप और मोबाइल चार्ज करने में सहूलियत हो। इतना ही नहीं, हर एक सीट के पास कूड़ेदान लगाया गया है। यात्रियों को पढ़ने की सुविधा देने के लिए हर बर्थ पर एक रीडिंग लाइट की व्यवस्था की गई है। यात्रियों को अपने सफर की पूरी जानकारी रहे, इसके लिए डिब्बों में जीपीएस सिस्टम के साथ जुड़ी खास एलईडी क्रीन लगाई गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here