अपनाइये माइंडफुलनेस मेडिटेशन तकनीक, बेहतर स्वास्थ्य के लिए

0
284

दिन प्रतिदिन समय के साथ स्पर्धा बढ़ती जा रही है| हर कोई बेहतर चाहता है और इसी के चलते व्यक्ति भागदौड़ में लगा है| ना ही वो व्यायाम का तवज्जो देता है ना ही अपनी सेहत को| जिसके चलते हमारे अंदर से आनंद मानो ख़तम सा होता जा रहा है|

लोगो में एकाग्रता की कमी, तनाव आदि लक्षण दिखाई दे रहे है| जो धीरे धीरे अवसाद, दुःख आदि का रूप ले रहे है| इसे दूर करने के लिए बहुत से लोग संभवत प्रयास भी करते है, जैसे व्यायाम करना, मूड रिफ्रेश करने के लिए कोई मूवी देख लेना, घूमना, फिरना आदि|

लेकिन यह सभी बाते आपको कुछ पल भर के लिए ही साथ देती है| हां लेकिन व्यायाम आपके सम्पूर्ण स्वास्थय को बनाये रखने में जरूर मदद करता है| लेकिन फिर भी कुछ लोगो के लिए यह भी उच्च परिणाम नहीं दे पाता|

ऐसे में व्यक्ति को अगर कुछ मदद कर सकता है तो वो है ध्यान| ध्यान के भी कई प्रकार है| जिन्हें एक एक करके हम आने वाले लेखों में जानेंगे| आज के लेख में हम आपको माइंडफुलनेस मेडिटेशन के बारे में बता रहे है| ध्यान का यह प्रकार आपको ना केवल तनाव से मुक्ति दिलाता है बल्कि वर्तमान को समझने की शक्ति देता है| आइये जानते है

जाने इसे करने की विधि, लाभ, माइंडफुलनेस मेडिटेशन कैसे करे?

माइंडफुलनेस मेडिटेशन करने के लिए सबसे पहले तो किसी शांत जगह का चुनाव करे| जहा आपको कोई भी डिस्टर्ब करने वाला ना हो|

आप किसी पेड़ के पास बैठकर या फिर घर में भी इसे कर सकते है| यदि आप घर में मेडिटेशन कर रहे है तो साफ़ जगह बैठे, चाहे तो कैंडल भी जला सकते है|

आपको कुछ समय ध्यान की स्तिथि में बैठना है तो आपका कंफर्टेबल होना जरुरी है| इसलिए आरामदायक कपडे पहने साथ ही कुछ तकिये भी अपने साथ रखे, ताकि जरूरत महसूस होने पर आप उन्हें ले सके|

ध्यान करने के लिए कुछ वक्त निर्धारित कीजिये| शुरुवात के दिनों में 10 मिनट सही रहेगा| एकदम से 1 घंटे का टाइम ना रखे| धीरे धीरे अपना समय बढ़ाये|

अच्छा होगा यदि आप एक टाइमर सेट कर ले| इससे ध्यान करते वक्त आपको बार बार घडी के तरफ नहीं देखना होगा| लेकिन एक बात का ख्याल रखे की आपका ध्यान का अंत परेशान करने वाला ना हो| इसलिए किसी सॉफ्ट म्यूसिक का ही टाइमर सेट करे|

कुछ लोग कहते है की कमल की मुद्रा में बैठना ही ध्यान है, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है| आप चेयर पर बैठ कर भी ध्यान कर सकते है| इसका कोई निश्चित तरीका नहीं है|

जब भी ध्यान करने बैठेंगे तो शुरुवात में आपका ध्यान का स्थिर न होना स्वाभाविक है| आप अपने पास्ट, और फ्यूचर के बारे में सोचने लगते है|

लेकिन धीरे धीरे आप ध्यान करना सिख ही जाते है| ध्यान करते वक्त गहरी साँसे ले और छोड़े| महसूस करे की कैसे सांस आपके फेफड़ो में भर रही है और गले के जरिये बहार जा रही है|

धीरे धीरे इस बात को समझे की कोई भी विचार आप पर हावी नहीं होगा और आप ध्यान को अच्छे से कर पाएंगे|

इस माइंडफुलनेस मेडिटेशन को आप चलते चलते, खाते खाते आदि वक्त पर भी कर सकते है|

आपको हर चीज़ को बस महसूस करना है, की कैसे आपका शरीर इसके लिए कार्य कर रहा है|
माइंडफुलनेस मेडिटेशन कैसे करे?

माइंडफुलनेस मेडिटेशन करने के लिए सबसे पहले तो किसी शांत जगह का चुनाव करे| जहा आपको कोई भी डिस्टर्ब करने वाला ना हो|

आप किसी पेड़ के पास बैठकर या फिर घर में भी इसे कर सकते है| यदि आप घर में मेडिटेशन कर रहे है तो साफ़ जगह बैठे, चाहे तो कैंडल भी जला सकते है|

आपको कुछ समय ध्यान की स्तिथि में बैठना है तो आपका कंफर्टेबल होना जरुरी है| इसलिए आरामदायक कपडे पहने साथ ही कुछ तकिये भी अपने साथ रखे, ताकि जरूरत महसूस होने पर आप उन्हें ले सके|

ध्यान करने के लिए कुछ वक्त निर्धारित कीजिये| शुरुवात के दिनों में 10 मिनट सही रहेगा| एकदम से 1 घंटे का टाइम ना रखे| धीरे धीरे अपना समय बढ़ाये|

अच्छा होगा यदि आप एक टाइमर सेट कर ले| इससे ध्यान करते वक्त आपको बार बार घडी के तरफ नहीं देखना होगा| लेकिन एक बात का ख्याल रखे की आपका ध्यान का अंत परेशान करने वाला ना हो| इसलिए किसी सॉफ्ट म्यूसिक का ही टाइमर सेट करे|

कुछ लोग कहते है की कमल की मुद्रा में बैठना ही ध्यान है, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है| आप चेयर पर बैठ कर भी ध्यान कर सकते है| इसका कोई निश्चित तरीका नहीं है|

जब भी ध्यान करने बैठेंगे तो शुरुवात में आपका ध्यान का स्थिर न होना स्वाभाविक है| आप अपने पास्ट, और फ्यूचर के बारे में सोचने लगते है|

लेकिन धीरे धीरे आप ध्यान करना सिख ही जाते है| ध्यान करते वक्त गहरी साँसे ले और छोड़े| महसूस करे की कैसे सांस आपके फेफड़ो में भर रही है और गले के जरिये बहार जा रही है|

धीरे धीरे इस बात को समझे की कोई भी विचार आप पर हावी नहीं होगा और आप ध्यान को अच्छे से कर पाएंगे|

इस माइंडफुलनेस मेडिटेशन को आप चलते चलते, खाते खाते आदि वक्त पर भी कर सकते है| आपको हर चीज़ को बस महसूस करना है, की कैसे आपका शरीर इसके लिए कार्य कर रहा है|

ऑफिस मेडिटेशन – जाने इसका तरीका और पाएं तनाव से निजात, जानिए इसके फायदे

माइंडफुलनेस मेडिटेशन करने से हर परेशानी की मुख्य वजह तनाव से निजात मिलती है| यदि आप तनाव से दूर हो जायेंगे तो आपको कई तकलीफो से निजात मिलेगी|

इसका अभ्यास करने से मानसिक स्वास्थ्य भी सुधरता है| यह चिंता तथा दुःख को दूर करने में मददगार है| इसे करने वाले व्यक्ति भुत, भविष्य की चिंता को छोड़कर वर्त्तमान में जीते है|

यह महिलाओ के लिए भी बहुत अधिक फायदेमंद है| इससे शारीरक और मानसिक दोनों चीज़े बेहतर होती है|
गठिया रोगी को इसके अभ्यास से फायदा मिलता है| यह मांसपेशियों के दर्द को दूर करता है|

ऊपर आपने जाना माइंडफुलनेस मेडिटेशन यह तकनीक लगभग हर किसी के लिए फायदेमंद है| यह आपके दिमाग को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करता है| इसके जरिये आप तनाव को पीछे छोड़ एक सुखमय जिंदगी की शुरुवात कर सकते है|