अगर शरीर में लगातार हो रहा हो दर्द, तो समझिए फेफडों में है कैंसर

0
112

पूरे विश्व में कैंसर दूसरी ऐसी बीमारी है जिससे लगातार मृत्यु दर बढ़ रही है। पिछले 3-4 सालों में लंग कैंसर से मरने वालो की संख्या दूसरे तरह के कैंसर से मरने वालों से अधिक देखी गई है। पूरे विश्व में 6 में से 1 मौत कैंसर से होती है। लंग कैंसर का सबसे महत्वपूर्ण कारण तम्बाकू का सेवन माना जाता है। जिसकी वजह से लंग कैंसर होता है। लगभग 22 फीसदी लोगों की मौत केवल तम्बाकू के सेवन से होती है। कई देशों में फेफड़ों के कैंसर से मरने वाली महिलाओं की संख्या स्तन कैंसर से मरने वाली महिलाओं से बहुत ज्यादा पाई गई है।

फेफड़ो के कैंसर का मुख्य कारण

  •  स्मोकिंग करने से 99 फीसदी फेफड़ों का कैंसर हो सकता है
  • रेडियोएक्टिव गैसों के संपर्क में रहने से
  •  अधिक गन्दगी में काम करने और वहां सांस लेने से
  •  तम्बाकू का सेवन करने से
  •  कोयले के संपर्क में अधिक रहने से

फेफड़ों के कैंसर को विकसित होने में सालों लग जाते हैं। जब तक लक्षणों का सही से पता लगता है तब तक ये रोग हमारी पूरी बॉडी के अन्य हिस्सों तक फैल चुका होता है। इसलिए हमको पहले से ही सावधान रहना जरुरी है जिससे हम लंग कैंसर के बढ़ने को रोक सकते हैं। जानते हैं कुछ महत्वपूर्ण लक्षण जिससे हम लंग कैंसर को बढ़ने से रोक सकते हैं

1 आमतौर पर खांसी दो से तीन हफ्ते तक रहती है। लेकिन काफी घरेलू उपाए और दवाइयों के बाबजूद अगर खांसी सही नहीं हो रही है और सीने में दर्द भी बना हुआ है, तो व्यक्ति को किसी विशेषज्ञ को दिखाना चाहिए क्योंकि यह किसी गंभीर बीमारी या कैंसर होने का लक्षण हो सकता है।

2 अगर आपकी हड्डियों में लम्बे समय से दर्द बना हुआ है तो आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए क्योंकि कैंसर जब हमारे शरीर में फैलता है तो जोड़ों, पीठ, कमर और शरीर के अन्य भागों में दर्द होना आम बात है। कई कैंसर के मामलों में हड्डी में फ्रैक्चर भी देखा गया है।

3  फेफड़े के काफी हिस्से में यदि हवा का प्रवेश सही तरह से नहीं हो पाता है या फेफड़ों के आस-पास द्रव्य (फुस्फुस बहाव) का संग्रह हो जाने से घुटन जैसा महसूस होता है जो फेफड़ों का कैंसर होने का संकेत हो सकता है। फेफड़ो में हवा सूजन की वजह से भी सही से नहीं पहुंच पाती है इसलिए फेफड़ों में अधिक समय तक तकलीफ रहे तो डॉक्टर के पास जरूर जाना चाहिए।

4  जब ट्यूमर फैलता है तब शरीर के ऊपरी हिस्से में जो शिराये रक्त को संचारित करती है, उन पर दबाब पड़ता है ऐसी स्थि‍ति में लगातार सिर में दर्द बना रहता है।अगर आपको लम्बे समय से चक्कर आना, दौरे पड़ना या शरीर में अकड़न जैसा महसूस होता है। तब भी आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए क्योंकि कैंसर सेल्स जब हमारे नर्वस सिस्टम की और बढ़ने लगते हैं तब यह हमारे न्यूरोलॉजीकल फंक्शन को प्रभावित करने लगते हैं। जिसकी वजह से ये लक्षण पैदा हो जाते हैं।

5 यदि सांस लेते समय सीटी जैसी आवाज आ रही है या चेहरे, कंधे और गर्दन पर सूजन जैसा प्रतीत होता है। तब भी यह लंग कैंसर के संकेत हो सकता है।

6 फेफड़ों का कैंसर अगर बढ़ जाता है तब मरीज के बलगम के साथ खून आने की समस्या शुरू हो जाती है।

7  ब्रोंकाइटिस जैसा संक्रमण अगर श्वसन प्रणाली में अक्सर हो रहा है या आप अक्सर निमोनिया जैसी समस्या से ग्रसित रहते हैं तब भी लंग कैंसर होने की संभावना हो सकती है।